विज्ञापन
विज्ञापन

आमदनी बढ़ानी है तो बढ़ाएं रेल किराया

नई दिल्ली/आरके सिंह (रेलवे बोर्ड के पूर्व चेयरमैन) Updated Sun, 24 Feb 2013 08:31 PM IST
hike rail fare to increase income
ख़बर सुनें
रेलवे की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। उसे अपनी आमदनी बढ़ाने लिए बजट में एक बार फिर किराए में वृद्धि करनी चाहिए। कुछ समय पहले रेलवे ने जो किराया बढ़ाया था उसका एक बड़ा हिस्सा डीजल की कीमतों में वृद्धि के रूप में चला जाएगा।
विज्ञापन
वैसे भी पिछले दस सालों से किराए में वृद्धि नहीं किए जाने के कारण यात्री गाड़ियों को चलाने में रेलवे को 20,000 करोड़ की सालाना सब्सिडी देनी पड़ रही है। रेलवे को यात्री किराए से कुल 32,000 करोड़ रुपये की आमदनी होती है, जबकि इसे चलाने में 52,000 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ते हैं। यह स्थिति ठीक नहीं है।

जहां तक माल भाड़े में वृद्धि की बात है तो मैं इसके पक्ष में नहीं हूं। सभी जानते हैं कि भाड़े से होने वाली आमदनी ही रेलवे को ब्रेड एवं बटर दिलाती है। यात्री किराए के विपरीत पूर्व में सभी रेल मंत्री माल भाड़े की दरों में लगातार वृद्धि करते आए हैं।

यदि आगे भी यह क्रम जारी रहा तो फ्रेट वाल्यूम घटेगा। लोग रेलवे से दूरी बना लेंगे तथा रोड ट्रांसपोर्ट को प्राथमिकता देंगे। रेलवे की हालत सुधारने के लिए आमदनी में वृद्धि के साथ खर्चों में कटौती तथा निवेश की प्राथमिकताओं को भी बदलना होगा। रेलवे को अब नए प्रोजेक्ट की घोषणा से बचना चाहिए।

सामाजिक दायित्वों को पूरा करने के लिए नई रेल लाइनों के निर्माण भी इस समय ठीक नहीं। इसके स्थान पर जरूरी योजनाओं पर निवेश बढ़ाना चाहिए। आज व्यस्त रूटों पर क्षमता से अधिक ट्रेनें चलाई जा रही हैं। यह रेलवे की संरक्षा तथा यात्रियों की सुरक्षा की दृष्टि से ठीक नहीं है। ऐसे रूटों पर अतिरिक्त ट्रैक का निर्माण, लाइनों के दोहरीकरण पर जोर देना होगा।

रेलवे को अब नई पैसेंजर ट्रेनों को चलाने की घोषणा नहीं करनी चाहिए। पहले यह जरूरी है कि जो ट्रेनें चल रही हैं वे नियमित रूप से चलाई जा सकें। उनकी सुरक्षा एवं संरक्षा सुनिश्चित हो। हमें ट्रेनों की सफाई पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

किराया बढ़ने के बाद ज्यादा सुविधाओं की मांग करने वाले यात्रियों को ध्यान देना होगा कि अभी भी यात्री गाड़ियों को चलाने के लिए माल भाड़े की आमदनी से 20,000 करोड़ अनुदान लेना पड़ता है। इसके साथ ही रेलवे को बिना संरक्षा एवं सुरक्षा से समझौता किए कर्मचारियों के खर्च में भी कटौती के उपाय ढूंढने होंगे। रेलवे की कमाई का 50 फीसदी से ज्यादा इसी मद में खर्च हो रहा है।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Crime Archives

यूपी: रामलीला मंच पर डांस करने को लेकर विवाद, गोलीबारी में किशोर घायल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में रामलीला में डांस को लेकर लोगों में जमकर मारपीट हो गई। झगड़ा इतना बढ़ गया कि इस दौरान रामलीला मंच पर तोड़फोड़ कर दी और फायरिंग भी हुई। फायरिंग करते समय छर्रा लगने से एक किशोर घायल हो गया...

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने कैलाश विजयवर्गीय और हेमा मालिनी पर दिया बेतुका बयान

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने सड़कों के बहाने कैलाश विजयवर्गीय और भाजपा सांसद हेमा मालिनी को लेकर बेतुका बयान दिया है।

15 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree