विज्ञापन

जेब के मामले में मर्दो पर भरोसा नहीं करती औरतें

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क। Updated Thu, 28 Mar 2013 11:01 AM IST
विज्ञापन
Women don't trust their chaps with money
ख़बर सुनें
पति की पतलून की जेब और पर्स टटोलने वाली पत्नियों के लिए राहत की खबर है। केवल भारत ही नहीं दुनिया भर की औरतें रुपए पैसे के मामले में अपने पति पर विश्वास नही करतीं। हाल ही में कराए गए एक सर्वे के मुताबिक रुपए पैसे के मामले में औरतें मर्दो पर कम ही भरोसा करती हैं। जबकि मर्दो के मामले में भरोसे का अनुपात औरतों से ज्यादा है।
विज्ञापन
डेली मेल के मुताबिक एक तिहाई से ज्यादा औरतें फाइनेंशियल मामलों में अपने पति पर भरोसा नहीं करती। यानी कि भारत में पत्नियों द्वारा पति का पर्स और जेब चैक करना कुछ ज्यादा बुरा नहीं है।

सर्वे बताता है कि पिछले कुछ सालों में रुपए पैसे के मामलों में औरतों का शक कुछ ज्यादा ही गहरा हो गया है और इसका कारण आर्थिक मंदी, नौकरी का छूटना और आर्थिक निर्भरता है।

सर्वे बताता है कि पर्स संभालने की बात हो तो मर्द आंख मूंद कर अपने दोस्तों और पत्नी पर भरोसा करते हैं। लेकिन औरतें बहुत कम मामलों में अपना पर्स अपने दोस्तों और पति को संभालने के लिए देती हैं।

यॉर्कशायर बिल्डिंग सोसाइटी के क्रिस पिलिंग द्वारा कराए गए इस सर्वे में 70 फीसदी लोगों ने स्वीकार किया कि वो अपने फाइनेंशियल सीक्रेट्स अपने पार्टनर या बेस्ट फ्रैंड के साथ शेयर नहीं करते। दूसरी तरफ एक तिहाई लोगों ने कहा कि वो कर्ज न चुका पाने वाले अपने दोस्त को कभी माफ नहीं करेंगे।

क्रिस पिलिंग द्वारा कराए गए सर्वे का मुख्य उद्देश्य ये जानना था कि समाज के बदलते पैमानों में विश्वास का अनुपात कितना है। सर्वे में स्वीकार किया गया कि बदलते जमाने और फाइनेंशियली परेशानियों के चलते लोग एक दूसरे पर कम ही विश्वास करते हैं।  
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

मैसकट रिलोडेड- देश की विविधता में एकता का जश्न
Invertis university

मैसकट रिलोडेड- देश की विविधता में एकता का जश्न

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

भारत की पहचान शक्तिशाली देश के रूप में बनी ये सौभाग्य की बात-यूपी विस अध्यक्ष

वैश्विक स्तर पर जिस तरह की चुनौतियां है उसका सामना करने के लिए दीनदयाल के विचारों को आत्मसात करने की जरूरत है। दीनदयाल उपाध्याय भारतीय राष्ट्रवाद को आगे बढ़ाने के लिए हमेशा लोगों को प्रेरित करते रहे

11 फरवरी 2020

विज्ञापन
आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us