बाघों के बीच बेखौफ घूमती हैं 'बीना'

जयपुर Updated Mon, 28 Jan 2013 11:18 AM IST
विज्ञापन
beena moves fearlessly in sariska

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बीना सरिस्का के जंगल में बाघों और खतरनाक जानवरों के बीच बेखौफ घूमती रहती है। उसे किसी का डर नहीं, ना ही कोई चिंता। दिन में एक बार शिकार और दो बार भोजन। यही बीना की दिनचर्या है। यहां बात हो रही है राजस्थान के सरिस्का वन्यजीव अभ्यारण्य में दो नई बाघिनों की जिनके नाम बीना एक और बीना दो हैं।
विज्ञापन


दरअसल इन दोनों बाघिनों के नाम राज्य की वनमंत्री बीना काक के नाम रखने से विवाद हो गया है। सरिस्का को आबाद करने के लिए रणथंभौर से लाकर मंगलवार को छोड़ी गई बाघिन का नाम बीना एक और दूसरी बाघिन का नाम बीना दो रखा गया है।


इस मामले में काक का कहना है कि नाम विभाग ने रखे हैं जबकि मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक एएस बरार का कहना है कि इन दोनों शावकों को जब पहली बार रणथंभौर में देखा गया था तब मंत्री मौजूद थीं तथा उनके नाम से बाघिनों के नाम रख दिए गए।

अब सरिस्का में आने पर नाम तो नहीं बदलेंगे लेकिन कोडिंग जरूर बदलेगी। उल्लेखनीय है कि बढ़ते शिकार के चलते सरिस्का में जंगल का राजा गायब हो गया था जिसको फिर से आबाद करने के लिए छह बाघ-बाघिन यहां लाए गए थे। इनमें से एक की मौत हो गई। एक बाघिन ने दो शावकों को जन्म दिया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X