विज्ञापन
विज्ञापन

महाकुंभ : दोनों अखाड़ा परिषदें भंग

हरिद्वार/इलाहाबाद/अमर उजाला ब्यूरो Updated Tue, 29 Jan 2013 12:41 PM IST
mahakumbh: both akhare councils dissolved
ख़बर सुनें
प्रयाग में अखाड़ों को कुंभ से पहले दिए जाने वाले परंपरागत भोज में सोमवार को हुए नाटकीय घटनाक्रम में दोनों अखाड़ा परिषदें भंग हो गईं। श्रीमहंत हरि गिरि के प्रस्ताव पर 13 अखाड़ों ने संयुक्त रूप से निर्णय लिया कि दोनों अखाड़ा परिषदों का वजूद समाप्त किया जाए।
विज्ञापन
अखाड़ा परिषद के नए चुनाव कुंभ मेला संपन्न होने के बाद होंगे। माना जा रहा है कि इस घटनाक्रम के बाद सभी विवादों का अंत हो जाएगा। अब श्रीमहंत ज्ञानदास और श्रीमहंत बलवंत सिंह अपनी-अपनी परिषदों के अध्यक्ष नहीं रहे हैं।

हरिद्वार कुंभ के बाद से अखाड़ा परिषद दो फाड़ हो गई थी। ज्ञानदास की अध्यक्षता वाली परिषद में छह और बलवंत सिंह की अध्यक्षता वाली परिषद में सात अखाड़े शामिल थे। तीन वर्षों के अथक प्रयत्नों के बावजूद दोनों परिषदें एक मंच पर नहीं आ पाई। परिणामस्वरूप प्रयाग कुंभ 13 अखाड़ों की मुकामी परिषद करा रही थी। सोमवार को प्रयाग में मेला आईजी आलोक शर्मा द्वारा सभी अखाड़ों को कुंभ से पहले दिया जाने वाला परंपरागत भोज दिया गया। भोज में सभी 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

इस बीच ज्ञानदास की अध्यक्षता वाली अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरि ने प्रस्ताव रखा कि कुंभ के निरापद संपन्न होने के लिए दोनों अखाड़ा परिषदों को भंग किया जाए। उन्होंने पहल करते हुए अपनी अखाड़ा परिषद को भंग कर दिया। इस पर तत्काल प्रतिक्रिया हुई और दूसरी अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत शंकरानंद सरस्वती ने भी अपनी अखाड़ा परिषद को भंग करने की घोषणा की।


सौहार्द के माहौल में दोनों परिषदों के पदाधिकारियों ने हरि गिरि, नरेंद्र पुरी, रामानंद पुरी, रविंद्र पुरी आदि संतों के उस संयुक्त प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया, जिसमें कुंभ को निरापद संपन्न कराने की बात कही गई।

बैठक के बाद पत्रकारों से श्रीमहंत हरि गिरि ने कहा कि आज (सोमवार) का दिन ऐतिहासिक है। दो परिषदों के चलते कई काम रुक गए थे। चूंकि परिषद नहीं अपितु अखाड़े महत्वपूर्ण हैं। अत: कुंभ की बागडोर 13 अखाड़े संयुक्त रूप से संभालते रहे हैं। उन्होंने बताया कि अब ज्ञानदास और बलवंत सिंह अध्यक्ष नहीं रह गए हैं।
----
ज्ञानदास मुद्दे पर उपजा था विवाद
कमिश्नर की बैठक में निर्मोही के श्रीमहंत राजेंद्र दास की ओर से महंत ज्ञानदास को बतौर अध्यक्ष आमंत्रित किए जाने का प्रस्ताव रखा गया था जिसका निरंजनी के सचिव महंत नरेंद्र गिरि ने विरोध किया था। इसी बात को लेकर दोनों ही के बीच विवाद बढ़ गया था।
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Crime Archives

यूपी: रामलीला मंच पर डांस करने को लेकर विवाद, गोलीबारी में किशोर घायल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में रामलीला में डांस को लेकर लोगों में जमकर मारपीट हो गई। झगड़ा इतना बढ़ गया कि इस दौरान रामलीला मंच पर तोड़फोड़ कर दी और फायरिंग भी हुई। फायरिंग करते समय छर्रा लगने से एक किशोर घायल हो गया...

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष के मौके पर पीएम मोदी के घर पहुंचे शाहरुख-आमिर समेत कई सितारे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष के खास मौके पर कला और सिनेमा से जुड़ी कई हस्तियों से अपने आवास पर मुलाकात की। इस खास कार्यक्रम में शाहरुख खान, आमिर खान, कंगना रनौत समेत कई सेलेब्स नजर आए।

19 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree