विज्ञापन
विज्ञापन

महिला संतों ने कहा, शाही स्नान में हों लेडीज फर्स्ट

इलाहाबाद/सरिता Updated Fri, 25 Jan 2013 09:18 PM IST
female saints said shahi snan ladies first
ख़बर सुनें
महाकुंभ में पहली बार संन्यासिनी दशनामी अखाड़े के गठन के बाद यह राय भी उभरी है कि शाही स्नान में महिला संतों को प्राथमिकता दी जाए। महिला संतों ने इसे प्रमुखता से उठाने की तैयारी भी कर ली है। उनका तर्क है कि जब दुनिया में हर जगह लेडीज फर्स्ट की अवधारणा है तो संत समाज इसे दरकिनार कैसे कर सकता है।
विज्ञापन
महिला महामंडलेश्वरों की इस मांग से परंपरा को लेकर नया विवाद उभर सकता है हालांकि उनका यह कहना है कि संत समाज महिलाओं को देवी रूप में मानता है इसलिए शाही स्नान में आचार्य महामंडलेश्वर के बाद चलने की मांग को मनाने में पीछे नहीं हटेंगे।

संगम की रेती पर आने वाली महिला संतों के हौसले बुलंद हैं। इस बार महाकुंभ में अखाड़ों की ओर से महामंडलेश्वर बनाए जाने का क्रम भी महिला संतों से शुरू हुआ। महानिर्वाणी ने पहले वेद भारती को महामंडलेश्वर बनाया। उसके बाद निरंजनी अखाड़े ने निर्भयानंद पुरी को महामंडलेश्वर के तौर पर मान्यता दी।

इसी दौरान महिला संन्यासियों की टोली माईबाड़े को अखाड़े का दर्जा मिल गया। महिला संन्यासियों की संख्या भी तेजी से बढ़ी। अब महिलाओं की मांग है कि उन्हें शाही स्नान के जुलूस में आचार्य महामंडलेश्वर के बाद चलने का मौका दिया जाए।

संन्यासिनी अखाड़े में हो महिला संतों का पंजीकरण
संन्यासिनी अखाड़े की अध्यक्ष देव्या गिरि की मांग है कि दशनामी अखाड़ों की महिला संत, महंत एवं महामंडलेश्वरों का पंजीकरण संन्यासिनी अखाड़े में किया जाए। उनका कहना है कि अखाड़े उन्हें सूचना दें कि किस महिला संत को पदाधिकारी बनाया जाएगा। उन्होंने सभी अखाड़ों से लिस्ट भी मांगने का मन बनाया है।

ध्वजा ही अलग नहीं, संस्कार भी अलग
महिला संतों ने मांग उठाई है कि मौनी अमावस्या को संत परंपरा में दीक्षित होने वाली संन्यासिनियों का दीक्षा संस्कार जूना अखाड़े की धर्मध्वजा के बजाए उनके शिविर में स्थापित धर्मध्वजा के नीचे ही हो। संन्यासिनी अखाड़ा की अध्यक्ष श्रीमहंत देव्यागिरि के मुताबिक दशनामी संन्यासी अखाड़े से अलग संन्यासिनी अखाड़े के तौर पर मान्यता मिली है। महिला संतों ने अलग ध्वजा फहराई है। उनका कहना है कि हमारा अगला कदम अपनी ध्वजा के नीचे ही संस्कार कराना है।

संत समाज में नारी को देवी का दर्जा प्राप्त है। शाही स्नान में आचार्य महामंडलेश्वर के पीछे पहले नंबर पर चलने की मांग इसी भाव को साकार करने के लिए है। परंपरा न बदली तो नई महामंडलेश्वर को वरीयता क्रम में सबसे पीछे चलना पड़ेगा जो संत समाज की मर्यादा के विपरीत है।-गुरु मां आनंदमयी पुरी, महामंडलेश्वर, निरंजनी अखाड़ा
विज्ञापन

Recommended

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम
Invertis university

छात्रोंं के करियर को नई ऊंचाइयां देता ये खास प्रोग्राम

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Crime Archives

यूपी: रामलीला मंच पर डांस करने को लेकर विवाद, गोलीबारी में किशोर घायल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में रामलीला में डांस को लेकर लोगों में जमकर मारपीट हो गई। झगड़ा इतना बढ़ गया कि इस दौरान रामलीला मंच पर तोड़फोड़ कर दी और फायरिंग भी हुई। फायरिंग करते समय छर्रा लगने से एक किशोर घायल हो गया...

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

सीएम केजरीवाल का ऑड-ईवन पर ऐलान,बताया दिल्ली में ऑड-ईवन किन पर होगा लागू और किन्हें मिलेगी राहत

4 नवंबर 2019 से शुरू हो रही ऑड-ईवन योजना पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बड़ा ऐलान किया है. केजरीवाल सरकार ने ऑड-ईवन से दोपहिया वाहनों को राहत देने का फैसला किया है।

17 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree