विज्ञापन
विज्ञापन

जित देखो तित संतई संता

अशोक संड Updated Mon, 28 Jan 2013 09:13 PM IST
saints multitude in prayag
ख़बर सुनें
संतों का वसंत है इन दिनों तीर्थराज प्रयाग में। तुलसी बाबा ने यों ही नहीं कहा- को कहि सकै प्रयाग प्रभाऊ। इंद्र-पुत्र जयंत की अनुकंपा से जो अमृत यहां छलका, उसका पुण्य न सिर्फ घर-गिरस्ती वाले कमा रहे हैं, बल्कि नाना प्रकार के बाबा भी लूट रहे हैं। बारह बरस बाद इलाहाबाद के दिन फिरे हैं। जित देखो तित संतई संता।
विज्ञापन
नाना प्रकार के बाबा के किसिम-किसम के अखाड़े। भव्यता के बौराये संत अपने-अपने नगाड़े पीट रहे हैं, जिसके कोलाहल में आस्था का मारा गृहस्थ ‘अपने सपनों का मेला’ तलाश रहा है। गंगा किनारे बसा यह लघु नगर लघुता का बोध नहीं कराता। विरक्त संतों ने तो भव्य कुटिया बना रखी है।

विदेशी गाड़ियां, आधुनिक संचार के उपकरण, अटैच्ड लैट्रीन-बाथरूम वाली स्विस कॉटेज वैराग्य और तपस्या को गौरव प्रदान करते हैं। चिंतन यह नहीं कि आत्मा और परमात्मा का संगम कैसे हो, बल्कि चिंता ये कि हमारी भव्यता कैसे अगले से अधिक रहे।
 
कोई बाबा एक पैर पर खड़ा है, तो कोई नाखून बढ़ाए हुए है, कोई वर्षों से तप में एक हाथ उठाए, तो कोई घुट मुंड बाबा, जिनका कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता। ढके बाबा से लेकर नागा बाबा के बीच सबसे अनूठे ऊ-लाला के गवैया भप्पी दा से मेल खाते एक ‘गोल्डन बाबा’ भी इसमें अपनी उपस्थिति दर्ज कराए हुए हैं। राजसी ठाठ में कथित ‘सात्विक चोला’। जय हो ओरिजिनल बाबा भोलेनाथ की।

पोतियों के जनमते ही मैं भी बाबा बन चुका हूं, लेकिन उम्र के इस पड़ाव में अखाड़ा बनाना नामुमकिन है। नई पीढ़ी के दांव-पेच के सामने पुरानी मान्यताओं की पहलवानी चित्त हो जाती है। मेले में पधारे बाबाओं की बात अलग है। वे अब भी हठ ठानते हैं और चिंतित रहते हैं कि उनके अखाड़े की पेशवाई और शाही स्नान बाकी से बेहतर कैसे हो।

यहां भारतीय साधना और संस्कृति का अदभुत कोलाज नजर आता है। माचिस की एक ही तीली से बीड़ी और गुग्गल जलाते पंडे, दान के लिए पिंड बनाने को विक्स की डिबिया से घी और पेप्सी की बोतल से गंगाजल निकालते ग्रामीण, यूरिया की बोरी में दान का आटा-चावल भरते पंडे और मोक्ष की इच्छा से डुबकी लगाते गृहस्थ।

गंगा, यमुना और अंतःसलिला सरस्वती का संगम सबके लिए है। बिग-बाजार की 'पहले आओ, पहले पाओ' वाली घोषणा यहां नहीं लागू होती। पुण्य बांटने की स्कीम नहीं चलाती हैं गंगा मैया। उनके तो दर्शन मात्र से मुक्ति मिलती है।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

गरीबी उन्मूलन का प्रयोगधर्मी नजरिया

भले ही आप बनर्जी, डुफ्लो और क्रेमर के नुस्खे से सहमत हों या नहीं, उन्हें नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा ने दिखाया है कि कैसे गरीबों के सामने आने वाली चुनौतियों को हल किया जाए, जिनमें से लाखों लोग इस देश में रहते हैं।

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने कैलाश विजयवर्गीय और हेमा मालिनी पर दिया बेतुका बयान

मध्य-प्रदेश सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने सड़कों के बहाने कैलाश विजयवर्गीय और भाजपा सांसद हेमा मालिनी को लेकर बेतुका बयान दिया है।

15 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree