विज्ञापन
विज्ञापन

भारत में सूचना की राजनीति : महत्वपूर्ण सवाल है कि सूचना क्या है और यह कैसे पैदा होती है?

संजय चक्रवर्ती Updated Fri, 09 Aug 2019 12:43 AM IST
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : a
ख़बर सुनें
अपनी हालिया प्रकाशित पुस्तक-द ट्रुथ अबाउट अस : द पॉलिटिक्स ऑफ इन्फॉर्मेशन फ्रॉम मनु टू मोदी- में मैंने यह दर्शाया है कि पिछली दो शताब्दी से ज्यादा समय से भारत के सामाजिक सत्य कैसे बनते आए हैं, कि कैसे यह आकार लेता है और इसके राजनीतिक एवं सामाजिक परिणाम क्या हैं। किसी भी समाज के 'सत्य' का निर्माण सूचनाओं के बुनियादी तत्वों के संगठन से होता है। सूचना का संचयन और संगठन 'सत्य' बन जाता है। अब यहां महत्वपूर्ण सवाल है कि सूचना क्या है। यह कैसे पैदा होती है?
विज्ञापन
सही जानकारी के रूप में क्या स्वीकार किया जाता है, किनके द्वारा और क्यों? ये महत्वपूर्ण सवाल सूचना की राजनीति के मूल आधार हैं, जिनमें सत्ता के लोगों की पसंद, कि क्या सूचना है और क्या नहीं, सूचनाओं को समूहों में वर्गीकृत करना, श्रेणियों को भरने के लिए गणना और जिन्हें श्रेणीबद्ध किया गया है, उनसे संचार शामिल होते हैं। इन विकल्पों में से प्रत्येक महत्वपूर्ण है, वर्गीकरण सबसे ज्यादा परिणामदायी है। प्रत्येक चरण पर प्रत्येक विकल्प एक अलग सामाजिक स्थिति के लिए एक अलग रास्ता बनाता है।

भारत की सामाजिक पहचान का मौजूदा विस्तार (यानी कि धर्मों, जातियों और जनजातियों का विस्तार) ऐसे विकल्पों की शृंखला का नतीजा है, जिन्हें सत्ताधारी लोगों ने विभिन्न समय पर चुना है। भारत की सामाजिक सच्चाई के नाम पर हमारे सामने जो कुछ हैं, वे वस्तुनिष्ठ नहीं, बल्कि विषयनिष्ठ हैं। इसे जटिलता को सरल करने और उन लोगों के हितों की सेवा के लिए बनाया गया था, जिन्होंने सत्य रचा। सूचना की राजनीति को तीन मूल तत्व आकार देते हैं- सत्ता, प्रौद्योगिकी और सरलीकरण।

इनमें सत्ता सबसे महत्वपूर्ण है। सत्ता किसके पास है, कितनी है, वह अपनी पसंद को वास्तविकता के रूप में किस प्रभावी तरीके से स्थापित कर सकता है, अपनी पसंद बनाते समय इसके बारे में वह कितना जानता और विश्वास करता है, अपनी पसंद के जरिये वह क्या हासिल करना चाहता है, उसके हित क्या हैं, आदि इस संदर्भ में बेहद महत्वपूर्ण सवाल हैं। 'सूचना ही शक्ति है' एक घिसी-पिटी बात है। सूचना क्या है, यह तय करने की क्षमता, उन्हें वर्गीकृत करना और उनके नाम देना ही सच्ची शक्ति है।  
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

वीरेंद्र सहवाग: वह बल्लेबाज जो गोल गेंद को पीट-पीटकर चपटी कर देता था

एक ऐसा बल्लेबाज जो गोल गेंद को पीट-पीटकर चपटी कर देता था। एक ऐसा खिलाड़ी जो पिच पर गाना गुनगुनाते हुए गेंदबाजों की लय बिगाड़ देता था...

20 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

मतदान के लिए जागरुक करने का अनोखा तरीका, युवाओं की टोली रैप सॉन्ग गाकर कर रही वोटिंग की अपील

21 अक्टूबर को महाराष्ट्र और हरियाणा में हो रहे विधानसभा चुनावों में ज्यादा से ज्यादा लोगों के घरों से बाहर निकलकर वोट डालने की अपील करने के लिए मुंबई में युवाओं ने दिलचस्प तरीका निकाला है। देखें ये वीडियो

20 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree