भ्रष्टाचार में लिप्त बोर्ड सदस्य को ब्लैकलिस्ट जरूर करे सेबी, इंफोसिस संस्थापक ने व्हिसलब्लोअरों के लिए मांगी सुरक्षा

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Tue, 22 Sep 2020 06:33 AM IST
विज्ञापन
एन आर नारायण मूर्ति
एन आर नारायण मूर्ति

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
इंफोसिस के संस्थापक एन आर नारायणमूर्ति ने कॉरपोरेट अधिकारियों के खिलाफ शिकायत करने वालों के पक्ष में आवाज उठाई है। राष्ट्रीय प्रबंधन संगठन के 47वें अधिवेशन में सोमवार को उन्होंने कहा कि बाजार नियामक सेबी को भ्रष्टाचार में लिप्त और प्रशासनिक कार्य में असफल कंपनी के बोर्ड सदस्यों को हर हाल में ब्लैकलिस्ट कर देना चाहिए। उनसे क्षतिपूर्ति वसूली की भी कार्रवाई करनी चाहिए।
विज्ञापन

नारायणमूर्ति ने कंपनी के उच्चाधिकारियों के खिलाफ आवाज उठाने वाले व्हिसलब्लोअर को सुरक्षा देने की भी वकालत की। उन्होंने कहा कि अगर शिकायतकर्ता की बात में सच्चाई है, तो कंपनी के खिलाफ आवाज उठाना बदले की कार्रवाई नहीं मानी जाएगी। अगर जांच में निकलता है कि किसी अधिकारी ने अपने विवेकाधीन कार्यों का सही से पालन नहीं किया है और उसकी वजह से कंपनी या बोर्ड को नुकसान हुआ, तो उसका इस्तीफा मांगा जा सकता है। ऐसे अधिकारियों और बोर्ड सदस्यों को सेबी ब्लैकलिस्ट कर दे और शेयरहोल्डर भी उसे बाहर करने के लिए वोट करें। इतना ही नहीं इस अवधि में शेयरधारक को हुए नुकसान की भरपाई भी संबंधित अधिकारी से वसूली के जरिये होनी चाहिए।
बड़े अधिकारियों पर बोर्ड नहीं ले सकता फैसला
इंफोसिस के संस्थापक ने कहा कि अगर निचले या मध्यम स्तर के कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत आती है, तो आंतरिक समिति बनाकर जांच की जानी चाहिए। चेयरमैन, सीईओ या कार्यकारी निदेशकों के खिलाफ शिकायत की जांच पर फैसला बोर्ड नहीं कर सकता। गौरतलब है कि 2018 में एक व्हिसलब्लोअरने इंफोसिस के कॉरपोरेट संचालन पर सवाल उठाते हुए सह-संस्थापक नंदन नीलेकणि पर आरोप लगाए थे और सेबी को पत्र लिखा था। इसके बाद 2019 में फिर एक व्हिसलब्लोअर ने सीईओ सलिल पारेश व सीएफओ निलंजन रॉय पर अकाउंटिंग अनियमितताओं का आरोप लगाया था। हालांकि, दोनों ही मामलों में कंपनी को क्लीनचिट मिल गई थी।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X