विज्ञापन

बजट 2018: रियल इस्टेट सेक्टर को मिल सकता है बूस्ट, 1.5 करोड़ लोगों को देगा 2022 तक नौकरी

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Tue, 30 Jan 2018 03:08 PM IST
real estate sector can get boost, 15 million people can job by 2022
विज्ञापन
ख़बर सुनें
इस बार के बजट में केंद्र सरकार रियल इस्टेट सेक्टर को मंदी के दौर से उबारने के लिए बड़ी घोषणाएं कर सकती है। आर्थिक सर्वे में 2022 तक इस सेक्टर द्वारा 1.5 करोड़ लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद से डेवलपर्स काफी खुश हैं। उन्हें लगता है कि अब इस बार के बजट भाषण में वित्त मंत्री अरुण जेटली उनकी मांगों पर ध्यान देंगे। 
विज्ञापन
उद्योग को मिले दर्जा
महागुन ग्रुप के डायरेक्टर धीरज जैन ने कहा कि जीएसटी और रेरा के लागू होने के बाद इसको उद्योग का दर्जा मिलने की कोशिशें तेज हैं। रियल इस्टेट इकोनॉमी का एक कोर सेक्टर है, इसलिए जल्द ही ऐसा होना चाहिए।

अगर रियल इस्टेट को इंडस्ट्री का दर्जा मिलता है तो फिर डेवलपर्स को कम इंटरेस्ट रेट पर लोन मिल सकेगा, जिससे मकान काफी सस्ते हो जाएंगे। सेविंग की राशि 1.5 लाख से 3 लाख करने से लोग ज्यादा इन्वेस्ट और टैक्स सेव कर सकते हैं। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

जीएसटी के दायरे में लाया जाए स्टांप ड्यूटी

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Property

सॉफ्टवेयर कंपनियों के लिए बंगलूरू बना नंबर एक शहर, एशिया की लिस्ट में चार भारतीय शहर शामिल

तकनीक से जुड़े कारोबारी संचालन की शुरुआत या विस्तार के लिए बंगलूरू एशिया में सबसे अच्छा शहर है। यह बात प्रोपर्टी कंसल्टेंट कोलियर्स इंटरनेशनल ने कही।

20 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

आज का पंचांग: जानिए किस समय करें शुभ काम?

सोमवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग सोमवार 24 सितंबर 2018।

23 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree