लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Business ›   Property ›   Effect Of Russia Ukraine War: Construction Of House Will Have Be More Expensive, Cement Prices Will Be Rise By Rs 50

रूस-यूक्रेन युद्ध का असर : घर बनाना होगा महंगा, 50 रुपये तक बढ़ेंगे सीमेंट के दाम, ग्राहकों पर पड़ेगा बोझ

एजेंसी, नई दिल्ली। Published by: योगेश साहू Updated Thu, 21 Apr 2022 05:54 AM IST
सार

क्रिसिल का कहना है कि वित्तवर्ष 2021-22 की पहली छमाही में सीमेंट की मांग में सालाना आधार पर 20 फीसदी का इजाफा हुआ है। लेकिन दूसरी छमाही में बेमौसम बारिश की वजह से सीमेंट की मांग घटने के साथ बालू और मजदूरों की भी कमी होने लगी। सीमेंट कंपनियों का कहना है कि पिछले 2-3 महीने में सीमेंट बनाने की लागत 70-75 रुपये प्रति बोरी बढ़ चुकी है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।
प्रतीकात्मक तस्वीर। - फोटो : iStock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

देश में सीमेंट की कीमतों में इस महीने 25-50 रुपये प्रति बोरी का इजाफा हो सकता है। रूस-यूक्रेन के संकट की वजह से बढ़ रही लागत का बोझ कंपनियां अब ग्राहकों पर डालने की तैयारी में हैं। इससे लोगों के लिए मकान बनान पहले के मुकाबले महंगा हो जाएगा। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने कहा कि पिछले एक साल में सीमेंट का भाव बढ़कर 390 रुपये प्रति बोरी पर पहुंच गया है। इसकी कीमतें बढ़कर 415 से 435 रुपये पहुंच सकती हैं।



एजेंसी ने कहा कि मार्च में कच्चे तेल की कीमतें 115 डॉलर प्रति बैरल पार कर गई थीं। इसके अलावा, अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कोयला का भाव भी विभिन्न कारणों से बढ़ा है। क्रिसिल ने कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध  के कारण ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख खदानों में तापमान के बदलने और इंडोनेशिया की ओर से कोयला निर्यात पर प्रतिबंध लगने से सीमेंट की मांग बढ़ गई है। ऊर्जा और ईंधन के साथ परिवहन लागत भी बढ़ी है। सीमेंट का करीब 50% हिस्सा सड़कों के जरिये ही ढोया जाता है।


लागत 70-75 रुपये बढ़ी
क्रिसिल का कहना है कि वित्तवर्ष 2021-22 की पहली छमाही में सीमेंट की मांग में सालाना आधार पर 20 फीसदी का इजाफा हुआ है। लेकिन दूसरी छमाही में बेमौसम बारिश की वजह से सीमेंट की मांग घटने के साथ बालू और मजदूरों की भी कमी होने लगी। सीमेंट कंपनियों का कहना है कि पिछले 2-3 महीने में सीमेंट बनाने की लागत 70-75 रुपये प्रति बोरी बढ़ चुकी है। ऐसे में अब पहले के भाव पर सीमेंट बेचना हमारे लिए मुश्किल हो रहा है।

घर बनाने की लागत 20 फीसदी तक बढ़ी
मकान बनाने में इस्तेमाल होने वाले छड़, ईंट और टाइल्स आदि पहले से महंगे हो गए हैं। इससे मकान बनाने की लागत 15-20 फीसदी बढ़ चुकी है। ऐसे में सीमेंट की कीमतें बढ़ने से लागत में और इजाफा होगा। दिसंबर से अब तक लोहे का भाव 20,000 रुपये टन बढ़ गया है। मार्च, 2021 की तुलना में अप्रैल, 2022 में सीमेंट की कीमत करीब 60 फीसदी बढ़ गई है।  
  • इसके अलावा, इस दौरान डीजल की कीमतों में भी 25 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी देखने को मिली है। देश में डीजल की खुदरा कीमतों में मार्च के मध्य से 14 बार में 10 रुपये प्रति लीटर का इजाफा हुआ है।
  • दूसरे-तीसरे स्तर के शहरों से सस्ते मकानों और इन्फ्रा की मांग आने के कारण वित्तवर्ष 2023 में सीमेंट की मांग की वृद्धि दर 5-7 फीसदी पर स्थिर रह सकती है। निर्माण लागत बढ़ने का भी मांग पर असर होगा।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00