मुनीर की शायरी मन के अंदर के तारों को खोलती है...

मुनीर नियाजी
                
                                                             
                            मुनीर के अकेलेपन को समझते-समझते आप अकेले हो जाओगे। उनके अकेलेपन के नए अंदाज को समझने का लोगों में धैर्य नहीं था और इस तरह मुनीर को लोग 'अजनबी' समझ बैठे। मैंने मुनीर को जितना पढ़ा है उसके बाद मैं उन्हें 'अजनबी' नहीं बल्कि चाह के बगैर गहरे एहसास में डूबे रहने वाला शायर मानता हूं। मुनीर की शायरी मेरे मन के अंदर के तारों को खोलती है। मुझे उनका अजनबीपन अच्छा लगा। 
                                                                     
                            
  आगे पढ़ें

4 months ago
Comments
X