आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Nayan! Tum Nirjhar N Hona

मेरे अल्फाज़

नयन ! तुम निर्झर न होना

Sanjay Narayan

66 कविताएं

15 Views
नयन ! तुम निर्झर न होना, देखकर काली घटाएँ।।

कभी सुख से कभी दुख से मेल ऋतुओं का।
खिलखिलाना फिर बिफरना खेल ऋतुओं का।
राह में टिकने न देंगे, तीव्रतम प्रतिकूल अंधड़,
धैर्य ! तुम अनुभव कराना, सुखद मतवाली हवाएं।।

बादलों की लामबन्दी, मिहिर पर बादल।
वक्ष स्थल पर धरा के, तिमिर की हलचल।
मेघ दल के मध्य तकना, आस! तुम निर्बल न होना,
चमचमाती सी सुनहरी, रश्मियाँ ताली बजाएं ।।

बादलों की ओट लेकर धूप यों झाँके।
घूँघटों में मुख छिपाकर रूप ज्यों झाँके।
चाँदनी की पीठ पीछे , रागिनी मल्हार गाती,
सत्य ! तुम डगमग न होना, रूप ने पालीं मृषाएं।।

संजय नारायण


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!