अजनबी

                
                                                             
                            हम न उनके अपने हुये न अजनबी रहे
                                                                     
                            
इस जिन्दगी के खेल भी निराले रहे
हम अपनो की तरह उन पर हक जताते रहे
वो गैर मानकर मेरी हरकत पर मुस्कुराते रहे
वो खुश थे हमसे जब तक हम बेगाने रहे
हुआ सितम मुझ पर जब हम उनके दीवाने हुये
अपनो की महफिल मै मुझे गैर बना डाला
नजरो से दूर चले जाने को भी कह डाला
उन्हे अपनी गलतियो का एहसास भी न हुआ
और मुझ पर बेवफा होंने का भी इल्जाम लगा डाला

- अभिषेक शुक्ला "सीतापुर"

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
3 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X