आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

नज़र पर ये हैं 10 चुनिंदा शेर...

नज़र पर ये 10 चुनिंदा शेर
                
                                                                                 
                            इश्क़ में गिरफ़्तार आशिक़ अपनी महबूबा की एक नज़र की तलाश में हमेशा रहता है, हालांकि ये आग दोनों तरफ लगी होती है। नज़र-नज़र में दोनों हाल-ए-दिल का पता लगाते रहते हैं। इन आशिक़ाना निगाहों को शायरों ने भी शायराना रंग दिया है। पेश है नज़रों पर 10 चुनिंदा शेर...
                                                                                                


अदा से देख लो जाता रहे गिला दिल का 
बस इक निगाह पे ठहरा है फ़ैसला दिल का 
- अरशद अली ख़ान क़लक़ आगे पढ़ें

4 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X