विज्ञापन

जिंदगी 50-50ः छोटे-छोटे सपनों के बीच जिंदगी की उधेड़ बुन

जिंदगी 50-50
                
                                                                                 
                            ‘जिंदगी 50-50’ युवा लेखक भगवंत अनमोल द्वारा लिखा गया उपन्यास है। इस उपन्यास की पृष्ठभूमि को 21वीं सदी के समाज में आए बदलावों को दर्शाया गया है। चिकित्सा, इंजीनियरिंग जैसे क्षेत्रों में जो उछाल आया है, उसने समाज में एक नया वर्ग पैदा कर दिया है। जिसे मध्यम वर्गीय परिवार कहा जा सकता है।
                                                                                                


इस उपन्यास में एक मध्यम वर्गीय परिवार की कहानी है, जिसके छोटे-छोटे सपने होते हैं और इन सपनों के पीछे वह समाज है, जो इन सपनों को लोगों के मन में गढ़ता है और इस तरह एक मध्यम वर्गीय परिवार का जीवन पीढ़ी दर पीढ़ी गुजरता जाता है। यह किसी फिल्म की कहानी की तरह बीच-बीच में बीते समय में जाता है, और फिर एक कड़ी शुरू होती है। बीच-बीच में कई हिंदी फिल्मों के किस्से भी है, जिससे पाठक को उपन्यास रोचक और समझने में आसान लगता है और यही उपन्यास की मजबूती है। 

किताब- जिंदगी 50-50
लेखक-भगवंत अनमोल
प्रकाशक- राजपाल प्रकाशन, नई दिल्ली
मूल्य- 225 रुपये
4 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X