आज का शब्द: शेष और सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता- क्या गजब का देश है

आज का शब्द
                
                                                             
                            शेष यानी बाकी अंश या बचा हुआ भाग, अवशिष्ट भाग। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- शेष। प्रस्तुत है सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता: क्या गजब का देश है....
                                                                     
                            

क्या गजब का देश है यह क्या गजब का देश है।
बिन अदालत औ मुवक्किल के मुकदमा पेश है।
आँख में दरिया है सबके
दिल में है सबके पहाड़
आदमी भूगोल है जी चाहा नक्शा पेश है।
क्या गजब का देश है यह क्या गजब का देश है। आगे पढ़ें

2 days ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X