आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

आज का शब्द: नवनिर्मित और गीता शर्मा बित्थारिया की कविता- संवादों के पुल

आज का शब्द
                
                                                                                 
                            'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- नवनिर्मित, जिसका अर्थ है- नया बना हुआ। प्रस्तुत है गीता शर्मा बित्थारिया की कविता- संवादों के पुल  
                                                                                                


आंखों से होकर मन के द्वारे
चढ़ते उतरते
कथा कहानी कविता रचते हैं
तेरी मेरी कही अनकही
बातों से ही तो बनते हैं
संवादों के पुल

नर्म मुलायम बातों की
चिकनी मिट्टी के गाढ़े गारे से
सहज प्रेम की बुनियादें भरते
नवनिर्मित या पुरातन
रिश्तों की मजबूत पकड़ को
कितने बुनियादी होते हैं
संवादों के पुल

भूली बिसरी यादों की पगडंडी पर
कभी वृक्षों से लम्बे तनते
फिर अनायास ही
भीनी खुशबू से पगे हुये
फूलों को चुनते
सावन भादों के बिन कहे ही
बरस बरस पड़ते हैं
मन आंगन को स्निग्ध करते हैं
संवादों के पुल आगे पढ़ें

6 days ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X