आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

                                                                           यह दिल तो आशिकाना बना हुआ है,
यह महबूब का दीवाना बन गया है।

अपने महबूब से दरख्वास्त करता है,
मुझे कभी बीच राह में मत छोड़ना।

मोहब्बत तो हमने पहली बार ही की है,
पहली बार में ही यह दिल आशिकाना बन गया ह...और पढ़ें
9 hours ago
                                                                           ए चांद तुम्हे भेजा है खुदा ने
सिर्फ मेरे तकने के लिए
मेरी गम से भरी सिहरन वाली
काली रातें ढकने के लिये......
तुमको जो देखू एक दफा
आंखे न अपनी बंद करू
तुम्हें छूने की ख्वाहिश न करू
जब देखू तुम्हे बस हंसऔर पढ़ें
10 hours ago
                                                                           दिल का सौदा है, कह भी न सकूँ।
आँखे बोल देती, छुपा भी न सकूँ।

चोरी से चुपके-चुपके सौदा हुआ।
अपने रिश्ते को, बता भी न सकूँ।

होले से मोहब्बत की, खुशबू उडी।
फुसफुस 'उपदेश', रोक भी न सकूँ।
...और पढ़ें
10 hours ago
                                                                           यू सदा कलियाँ यहाँ खिला करे
रोज अपना मिलन यू हुआ करे I

सादगी से है भरी ये जिंदगी
हो दिलों में मोहब्बत दुआ करे I

लोग आये लोग जाये गम नहीं
हर दिल के दरीचे खुला करे I

रंजिशे दिल में लिए व...और पढ़ें
11 hours ago
                                                                           नाकामियों के खौफ ने दीवाना कर दिया,
मंजिल के सामने भी पहूँच के निराश हूँ।

ज़िंदा हूँ इस तरह कि ग़म-ए-ज़िंदगी नहीं 
जलता हुआ दिया हूँ मगर रौशनी नहीं। 

आता है जो तूफ़ाँ आने दे कश्ती का ख़ुदा ख़ुद हाफ़िज़ है ...और पढ़ें
12 hours ago
                                                                           फिसला दिल ये मेरा, हर हसीन पर
दिल को लुटा दिया, हर महजबीन पर

अपने भी तो जाना , कुछ उसूल हैं
फेंका नहीं कंकड़, इक नाजनीन पर

थामा जो हाथ तुमने, इस गरीब का
आये खुशी मनाने , तारे जमीन पर

रु...और पढ़ें
15 hours ago
                                                                           तेरी रहमतों की बारिश..…सरेशाम हो गई है
मेरी और तेरी कहानी......सरेआम हो गई है

इक मेरी ही नहीं ये.... सबकी नजर है तुझ पर
मेरी जाना जब से तू.... गुलफाम हो गई है

मुझे छोड़कर किसी के.... अब तुम ना हो सकोगे
और पढ़ें
16 hours ago
                                                                           कुछ तो कमी मेरे सनम में होगी
बाक़ी बची बातें अब जहन्नुम में होगी
तुम मुझसे अब एबल जन्म में मिलना
अब तुमसे मोहब्बत अगले जनम में होगी
तेरे कड़वे लहजे को मीठा कर सके
इतनी मिठास तो शबनम में होगी
तन्हाई अब काटने क...और पढ़ें
16 hours ago
                                                                           तिल और तिल कर के ना मारो मुझको
अपनी मोहब्बत से जरा संवारो मुझको
यूं तो चाहने वालों की कमी नहीं हमको
बैठे हैं पसंद करने वाले हजारों हमको

- बशर...और पढ़ें
16 hours ago
                                                                           नजर मुझसे यूं छिपाता है क्या
सच सच कह दे नुमाइस है क्या
कारनामें तेरे भी कुछ कम नहीं
दास्तां तू मेरी सुनाता है क्या
दिल के अंदर कुछ और भी है
आँखें यूं मुझसे मिलाता है क्या
तार तार किया तूने दिल मेरा
अब...और पढ़ें
16 hours ago
X