आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

काका हाथरसी की हास्य रचना: सीधी नजर हुई तो सीट पर बिठा गए

हास्य
                
                                                                                 
                            सीधी नजर हुई तो सीट पर बिठा गए
                                                                                                

टेढी हुई तो कान पकड़ कर उठा गये।

सुन कर रिजल्ट गिर पडे़ दौरा पड़ा दिल का
डाॅक्टर इलेक्शन का रियेक्शन बता गये ।

अन्दर से हंस रहे है विरोधी की मौत पर
ऊपर से ग्लीसरीन के आंसू बहा गये ।

भूखों के पेट देखकर नेताजी रो पडे़ 
पार्टी में बीस खस्ता कचौड़ी उड़ा गये ।

जब देखा अपने दल में कोई दम नहीं रहा 
मारी छलांग खाई से ''आई'' में आ गये । आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X