Mohsin Naqvi Poetry: कौन सी बात है तुम में ऐसी, इतने अच्छे क्यूँ लगते हो 

उर्दू अदब
                
                                                             
                            इतनी मुद्दत बा'द मिले हो 
                                                                     
                            
किन सोचों में गुम फिरते हो 

इतने ख़ाइफ़ क्यूँ रहते हो 
हर आहट से डर जाते हो 

तेज़ हवा ने मुझ से पूछा 
रेत पे क्या लिखते रहते हो 

काश कोई हम से भी पूछे 
रात गए तक क्यूँ जागे हो 

में दरिया से भी डरता हूँ 
तुम दरिया से भी गहरे हो 

कौन सी बात है तुम में ऐसी 
इतने अच्छे क्यूँ लगते हो  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X