पंत जी ने जैसे ही अपना नाम बताया महादेवी खिलखिला पड़ीं...

हिंदी की कवि महादेवी वर्मा की मुलाकात एक कार्यक्रम में सुमित्रानंदन पंत से हुई
                
                                                             
                            

हिंदी की कवि महादेवी वर्मा की मुलाकात एक कार्यक्रम में सुमित्रानंदन पंत से हुई। पंत जी ने जैसे ही अपना नाम बताया महादेवी बुरी तरह हंसने लगीं। अपनी किताब 'पथ के साथी' में महादेवी लिखती हैं कि वो पूरी अशिष्टता से हंसे जा रही थी। 

आगे पढ़ें

असल बात यह थी कि...

5 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X