आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Main Inka Mureed ›   gopal das neeraj: a memorable poet me for always
नीरज

मैं इनका मुरीद

नीरज, जिनके गीतों में इंसान को मुकम्मल करने की है ताकत

शरद मिश्र/ अमर उजाला नई दिल्ली

1429 Views
गोपाल दास नीरज का नाम सुनते ही प्रेम और विरह में डूबी लरजती सी आवाज मन के तारों को झंकृत कर देती है। फिर आप नीरज की दो-एक कविताएं और गीत पढ़कर ही मन को सुकून दे सकते हैं। नीरज की गीतों की गहराई की यह विशेषता ही कही जा सकती है। नीरज ने अपनी कलम से युवा अरमानों को जो उड़ान दी है वह लंबे शोध का विषय हो सकता है। एकांत का मौन और चीखती प्रेम की वेदना उनकी कविताओं में रह-रह कर टीस के साथ दर्द बनकर उभरती है। आंखें नम हो जाए यह नीरज को पढ़ने की शर्त है। वामपंथी आलोचकों ने हमेशा नीरज को ख्वाबों और ख्यालों का आदमी कहकर नकारा कह दिया। लेकिन नीरज ने हिंदी कविता और गीतों में जो मादक खूश्बू बिखेरी है, उसे प्रेम और विरह में डूबा कोई शख्स ही समझ सकता है। उनके गीतों में प्रेम की पुकार है। करारे प्रहार की बजाए कोमलता और सुहावने संस्कार हैं। जो जेहन में दूर तलक बिंब की तरह उभरते रहते हैं। 

पद्मश्री गोपालदास नीरज का जन्म 8 फरवरी 1926 को ग्राम: पुरावली, इटावा, उत्तर प्रदेश में हुआ। कालेज में अध्यापन, मंच पर कविता-वाचन और चित्रपट के लिये गीत रचना में नीरज एक लोकप्रिय कवि हैं। नीरज जी से हिन्दी संसार अच्छी तरह परिचित है किन्तु फिर भी उनका काव्यात्मक व्यक्तित्व आज सबसे अधिक विवादास्पद है। जन समाज की दृष्टि में वह मानव प्रेम के अन्यतम गायक हैं। रामधारी सिंह दिनकर के अनुसार वे हिन्दी की वीणा हैं। अन्य भाषा-भाषियों के विचार में वे 'सन्त-कवि' हैं और कुछ आलोचक उन्हें 'निराश-मृत्युवादी' भी मानते हैं।

नीरज की एक कलम से- 

"प्यार अगर थामता न पथ में ऊंगली इस बीमार उमर की
हर पीड़ा वेश्या बन जाती, हर आंसू आवारा होता !

तुम चाहे विश्वास न लाओ लेकिन मैं तो यही कहूंगा
प्यार न होता धरती पर तो सारा जग बंजारा होता !"


उनकी रचनाओं की शुरुआत प्रेम से होती है और उसका अंत एक लंबे विरहन के मौन में समा सा गया है। रचनाएं-दर्द दिया है, प्राण गीत, आसावरी, गीत जो गाए नहीं, बादर बरस गयो, दो गीत, नदी किनारे, नीरज की पाती, लहर पुकारे, विभावरी, संघर्ष, अंतरध्वनी, बादलों से सलाम लेता हूं, सभी में प्रेम का एक मुलायम और सोंधा एहसास है। लंबी तपन के बाद जैसे बरखा की बूंदें मन को शीतलता देकर एक ठहराव देती हैं, वैसे ही नीरज के गीत जीवन को संबल और सहारा देते हैं। नीरज के गीतों ने मेरे उलझे हुए मन को सुलझाया है। मुझे गहरी समझ दी है। यही वजह रही कि मैं नीरज का मुरीद हो गया।   

नीरज प्रेम को एक शक्ति मानते हैं। उसे अंतिम निष्कर्ष तक पहुंचाने की एक मुकम्मल कोशिश भी करते हैं लेकिन अपने इस भावावेश में वह समय को नहीं भूल जाते। उन्हें पता है कि समय के बंधन से कोई आजाद नहीं है। तभी तो वह लिखते हैं- 

'वक्त को जिसने नहीं समझा उसे मिटना पड़ा है
बच गया तलवार से तो फूल से कटना पड़ा है'


नीरज प्रेम के लुटने का मजा लेते हैं। उसका रोना नहीं रोते। वास्तव में प्रेम के प्रति उनकी सोच इतनी मार्मिक और गर्हित है कि उसे कोई लूट ही नहीं सकता। तभी तो वह एक कद्दावर सूरमा की तरह प्रेम के हर तरह के परिणाम से निपटने की चुनौती भी अपने काव्य में देते हैं। वास्तव में उनकी फकीरी सोच ने ही उनके काव्य को इतना सफल बनाया है।

उन्होंने लिखा है-

'क्यों न कितनी ही बड़ी हो, क्यों न कितनी ही कठिन हो,
हर नदी की राह से चट्टान को हटना पड़ा है,
उस सुबह से सन्धि कर लो,
हर किरन की मांग भर लो,
है जगा इन्सान तो मौसम बदलकर ही रहेगा।
जल गया है दीप तो अंधियार ढल कर ही रहेगा'।


नीरज को विरह चुभता नहीं है। बल्कि वह उसे एक मुलायम और भीगे हुए मन के साथ दूर तलक अपने में जोड़े रखने का साहस रखते हैं। तभी तो वह लिखते हैं-  

'स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से
लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से
और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे।
कारवां गुज़र गया गुबार देखते रहे।

हो सका न कुछ मगर शाम बन गई सहर
वह उठी लहर कि ढह गये किले बिखर-बिखर
और हम डरे-डरे नीर नैन में भरे
ओढ़कर कफन पड़े मजार देखते रहे।
कारवां गुजर गया गुबार देखते रहे'।

  आगे पढ़ें

प्रेम कई बार धर्म बन जाता है...

सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!