'दीपावली' पर ये हैं 20 चुनिंदा शेर....

'दीपावली' पर ये हैं 20 चुनिंदा शेर....
                
                                                             
                            दीपावली उम्मीद का उत्सव है। सबके जीवन में उजाले की उम्मीद। ऐसा शायद ही कोई शायर होगा जिसने चराग़-या रौशनी पर दो-चार शेर न कहें हों। पेश है दिवाली पर शायरों के कलाम- 
                                                                     
                            

हस्ती का नज़ारा क्या कहिए मरता है कोई जीता है कोई
जैसे कि दिवाली हो कि दिया जलता जाए बुझता जाए
- नुशूर वाहिदी

चाँद भी हैरान दरिया भी परेशानी में है 
अक्स किस का है कि इतनी रौशनी पानी में है 
- फ़रहत एहसास
  आगे पढ़ें

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X