रामधारी सिंह दिनकर: याचना नहीं, अब रण होगा...

Ramdhari Singh Dinkar Rashmirathi
                                
वर्षों तक वन में घूम-घूम,
बाधा-विघ्नों को चूम-चूम,
सह धूप-घाम, पानी-पत्थर,
पांडव आये कुछ और निखर।
सौभाग्य न सब दिन सोता है,
देखें, आगे क्या होता है।

मैत्री की राह बताने को,
सबको सुमार्ग पर लाने को,
दुर्योधन को समझाने को,
भीषण विध्वंस बचाने को,
भगवान् हस्तिनापुर आये,
पांडव का संदेशा लाये।
आगे पढ़ें

कृष्ण की चेतावनी

2 years ago
Comments
X