आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Happy valentine day 2020: Munawwar Rana best ghazal khafa hona zara si bat par talwar ho jana
मुनव्वर राना की ग़ज़ल: ख़फ़ा होना ज़रा सी बात पर तलवार हो जाना

इरशाद

मुनव्वर राना की ग़ज़ल: वो अपना जिस्म सारा सौंप देना मेरी आँखों को 

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

6030 Views
ख़फ़ा होना ज़रा सी बात पर तलवार हो जाना 
मगर फिर ख़ुद-ब-ख़ुद वो आप का गुलनार हो जाना 

किसी दिन मेरी रुस्वाई का ये कारन न बन जाए 
तुम्हारा शहर से जाना मिरा बीमार हो जाना 

वो अपना जिस्म सारा सौंप देना मेरी आँखों को 
मिरी पढ़ने की कोशिश आप का अख़बार हो जाना  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!