माया एंजेलो की कविता 'दो मुझे तुम्हारा हाथ'

maya angelou poem in hindi do mujhe tumhara haath
                
                                                             
                            

दो मुझे तुम्हारा हाथ।

थोड़ी जगह दो मुझे
कि नेतृत्व कर सकूं
अनुसरण कर सकूं
तुम्हारा
कविता के इस भावावेश से दूर।

दूसरों को पा जाने दो
मार्मिक शब्दों का
एकान्त
और करने दो प्रेम
अपने खोए हुए प्रेम से।

मेरे लिए
दो मुझे तुम्हारा हाथ।

मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’

2 days ago
Comments
X