साहिर लुधियानवी भारत भर की सिंगल मदर्स के आदर्श बेटे थे

साहिर लुधियानवी
                
                                                             
                            

हमारे साहिर लुधियानवी अपनी माँ सरदार बेग़म के लिए अब्दुल हयी थे। माँ थी तो पिता भी होने थे। यह एक जैविक मज़बूरी थी। जो अनिवार्यतः घटित होनी थी। सो घटित हुई और अब्दुल हयी के पिता हुए फ़ज़ल मुहम्मद। लुधियाना के एक रईस जागीरदार।

कुछ दुख हमारे होने से पहले हमारे जीवन में मौजूद होते हैं। वो हमारा इंतज़ार कर रहे होते हैं।  अब्दुल हयी के जीवन का दुख, उनके जन्म से पहले ही उनका इंतज़ार कर रहा था। उनकी 12 माएँ थीं और एक पिता। ये कहानीनुमा बात अब्दुल हयी के जीवन का यथार्थ थी। इसे ही शायद जादुई यथार्थवाद कहते हैं। जहाँ कुछ असंगत, कहानीनुमा, काल्पनिक सी बात यथार्थ में घटित होती है। अब्दुल हयी के जीवन के इसी तल्ख़ जादू ने उन्हें हर्फ़ों का जादूगर बना दिया। और वो अब्दुल हयी से शायर साहिर लुधियानवी बन गए। साहिर का शाब्दिक अर्थ जादूगर होता है।

आगे पढ़ें

2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X