आपका शहर Close

भारत के 5 ऐसे कालभैरव मंदिर जहां पर होती है हर मनोकामना पूरी

 five kaal bhairav temple in india

10 नवंबर को कालभैरव अष्टमी है। धर्म शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव के कालभैरव स्वरुप की उत्पत्ति मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को हुआ था। काल भैरव अष्टमी तंत्र साधना के लिए उत्तम मानी जाती है और ऐसी मान्यता है इस दिन काल भैरव की पूजा करने से सभी संकटों से मुक्ति मिल जाती है। भारत में कई स्थानों पर प्रसिद्ध कालभैरव मंदिर है जिसका अपना अलग-अलग महत्व है। 

पढ़ें- कालभैरव अष्टमी: जानिए कैसे पैदा हुए काल भैरव और क्यों काट दिया था ब्रह्माजी का सिर

Most Viewed

शनि अमावस्याः अगर इस खास योग में करेंगे पूजा तो बिगड़े काम बना देंगे शनिदेव

shani amavasya 2017 know puja or worship time and importance
  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

उत्पन्ना एकादशी: आज के दिन हुआ था देवी एकादशी का जन्म, जानिए पूरी कथा

know about utpanna ekadashi vrat katha and its significance
  • मंगलवार, 14 नवंबर 2017
  • +

विवाह पंचमीः इस वजह से किया जाता है रामचरित मानस का अधूरा पाठ

Vivah Panchami 2017 know date and time of ram janki vivah
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

Also View

कालभैरव अष्टमी: जानिए कैसे पैदा हुए काल भैरव और क्यों काट दिया था ब्रह्माजी का सिर

story of kaal bhairav and know about how was born bhairav ​​
  • मंगलवार, 7 नवंबर 2017
  • +

कालभैरव अष्टमी: जानिए क्यों कहते हैं काल भैरव को काशी का कोतवाल

kallbhairav ​​astami: why kaal bhairav ​​is called kashi ka kotwal
  • सोमवार, 6 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!