आपका शहर Close

कालभैरव अष्टमी: जानिए कैसे पैदा हुए काल भैरव और क्यों काट दिया था ब्रह्माजी का सिर

story of kaal bhairav and know about how was born bhairav ​​

अगहन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को कालभैरव अष्टमी मनाई जाती है। इस दिन भगवान काल भैरव का जन्म हुआ था। शिव पुराण के अनुसार कालभैरव को भगवान शिव का अवतार माना जाता है, ये भगवान शंकर के दूसरे रूप हैं। इस बार काल भैरव अष्टमी 10 नवंबर, शुक्रवार के दिन है। इनकी पूजा से घर में नकारत्मक ऊर्जा, जादू-टोने, भूत-प्रेत आदि का भय नहीं रहता। कालभैरव के जन्म कैसे हुआ आइए जानते हैं।

पढ़ें- सपने में अगर दिखाई दें भगवान शिव से जुड़ी ये खास चीजें, मिलता है धन लाभ

Comments

Most Viewed

आखिर क्यों पश्चिम दिशा की तरफ अदा की जाती है नमाज

this is why do muslims face west direction when praying
  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

शनि अमावस्या के दिन करें इन 5 उपायों में से कोई एक, दूर होंगे शनिदोष

 during shani amavasya follow these five measures for avoid shani dosha
  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

जानिए क्यों मुसलमान करते हैं इस शक्तिपीठ की पूजा

know story of Hinglaj Devi or Hingula Devi or Nani Mandir in Balochistan at pakistan
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

Also View

9 नवंबर का दिन है बेहद खास, इन 8 राशि वालों का होगा हर काम आसान 

guru pushya nakshatra yoga falls on 9th November is very special day
  • मंगलवार, 7 नवंबर 2017
  • +

भूलकर भी सुबह उठकर नहीं देखनी चाहिए ये 4 चीजें, होता है भारी नुकसान

always avoid such type of things in morning
  • सोमवार, 6 नवंबर 2017
  • +

सपने में अगर दिखाई दें भगवान शिव से जुड़ी ये खास चीजें, मिलता है धन लाभ

these things associated with lord shiva seen in the dream are auspicious
  • सोमवार, 6 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!