शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

तबाही के जख्म छोड़ गई शारदा और घाघरा की बाढ़

Bareily Bureau Updated Wed, 12 Sep 2018 11:16 PM IST

विज्ञापन
लाइव.....

स्लग- शारदा और घाघरा नदियों की बाढ़ ने दिए जख्म
हर तरफ भुखमरी, गरीबी और बीमारी

अमर उजाला ब्यूरो
लखीमपुर खीरी। शारदा और घाघरा नदियों ने न केवल लोगों के आशियाने उजाड़े बल्कि खेती की जमीन और समूची फसल भी लील ली है। सैकड़ों परिवार बेघर हो चुके हैं। वे खानाबदोशों की तरह जिंदगी गुजर बसर करने को विवश हैं। कुछ परिवार के लोग तटबंध तो कुछ ने सड़क के किनारे तिरपाल डालकर रहना शुरू किया है। पीड़ितों को कुछ सरकारी इमदाद मिली भी तो वह ना काफी साबित हुई है। बाढ़ और कटान पीड़ितों को जो जख्म मिला है उसे भरने में लंबा समय लगेगा।
सरकारी आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक बाढ़ और कटान से 56477 लोग प्रभावित हुए हैं जब कि बाढ़ से 10 लोगों की जान भी जा चुकी है। अब बाढ़ प्रभावित इलाके में बीमारियों ने भी पैर पसारना शुरू कर दिया है। लोगों के लिए इलाज करा पाना भी मुश्किल हो रहा है।

बाढ़ कटान से अब तक हुआ नुकसान
बाढ़ से प्रभावित जनसंख्या 56477
जनहानि 10
पशुहानि 04
कुल प्रभावित क्षेत्रफल 6900.089 हेक्टेयर
प्रभावित कृषि योग्य भूमि 3368.429 हेक्टेयर
प्रभावित फसली क्षेत्रफल 3317.109 हेक्टेयर
कटान प्रभावित क्षेत्रफल 474.673 हेक्टेयर
फसल की अनुमानित क्षति 1740.92 लाख
पूर्णतया क्षतिग्रस्त पक्के मकान 09
पूरी तरह क्षतिग्रस्त कच्चे घर 14
आंशिक क्षतिग्रस्त पक्के मकान 08
क्षतिग्रस्त झोपडिय़ों की संख्या 95



12एलकेएच 18
शारदा की बाढ़ ने बना दिया खानाबदोश
महेवागंज। बैजनाथपुरवा ग्रामसभा ग्रंट 12 का बेहद खुशहाल गांव होता था। एक हजार से ज्यादा आबादी थी। शारदा नदी की बाढ़ ने जब यहां कहर बरपाया तो समूचा गांव नदी में समा गया। दर्जनों परिवार बेघर हो गए। लोग जैसे तैसे गुजर बसर करने को विवश हैं। मिलपुरवा बंधे पर त्रिपाल में कुछ बच्चों को देखा जा सकता है। यहीं बैठे जगजीवन ने अपने को कटान पीड़ित बताया और फफक कर रो पड़े। वह बीस एकड़ जमीन के जोतकर थे। पक्का मकान था, बच्चे अच्छे स्कूल में पढ़ने जाते थे। करीब दो माह पहले घर, जमीन सब कुछ नदी में समा गया। यही स्थिति आधे से ज्यादा गांव के लोगों की है।


12एलकेएच 19
कई परिवार भुखमरी से जूझ रहे
महेवागंज। खगईपुरवा गांव में ज्यादातर लोग मजदूरी पेशा हैं। कच्चे घरों वाली बस्ती में गरीबी दूर से झलकती है। बाढ़ में अधिकांश घर ढह गए हैं। विवश होकर लोगों ने पास के ही तटबंध पर झोपड़ी बनाकर रहना शुरू किया है। जो गांव दो महीने पहले हंसी ठिठोली से गुलजार हुआ करता था अब वहां सन्नाटा है। रास्ते खराब हो चुके हैं। खड़ंजे उखड़ गए हैं। गांव के घनश्याम, डालचंद, हिमा देवी, मनोज आदि बताते हैं कि कभी गांव के लोग खुशहाल हुआ करते थे लेकिन अब जैसे तैसे राशन तेल आदि का भी इंतजाम नहीं हो पा रहा है। कई परिवार भुखमरी से जूझ रहे हैं।


12एलकेएच 17
बाढ़ के बाद बीमारियों से जूझ रहे लोग
महेवागंज। बहालीपुरवा गांव और मेंहदी को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग भी कट गया है। बड़ागांव से मेंहदी जाना भी मुश्किल हो रहा है। मेंहदी गांव में खड़ंजा उखड़ चुका है। लोग कीचड़ से होकर निकलने को विवश हैं। तटबंध से पांच किलोमीटर जाना लोगों को काफी भारी पड़ रहा है। अधिकांश लोग गांव छोड़ चुके है। यहां तटबंध ही अब नया बसेरा बना है। बच्चे भी बुखार में तप रहे है। इतने पैसे नही कि उनका अच्छा इलाज हो सके।


12एलकेएच 20, 21
घर में नहीं बचा अनाज
धौरहरा। चिकनाजती गांव में बाढ़ ने ग्रामीणों को सड़क पर ला दिया है। गांव को जाने वाली सड़क पर एक सरकारी तिरपाल के नीचे चारपाई पर बैठी मोतीलाल की पत्नी रामकली मिली। इन्होंने बताया कि पति मजदूरी करने गए हैं। घरों में जो थोड़ा बहुत अनाज था वह सड़ गया। खेत जिसमें धान लगाया था वह भी नदी में समा गया। अब कैसे जिंदगी कटेगी भगवान ही जाने। आगे कुछ दूरी पर पंचायत भवन पहुंचने पर बाढ़ कटान पीड़ित लालाराम, रामऔतार, भवंरकली, शिवराम, मुरारीलाल, टीकाराम, छोटेलाल परिवार सहित बैठे मिले। सभी ने बताया कि घर और जमीन नदी में समा चुकी है। न अब रहने को घर है न खाने को दाना। बस किसी तरह जिंदगी की गाड़ी खींच रहे हैं।

Recommended

Spotlight

Most Popular

Related Videos

विज्ञापन
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।