जज अदालत चला सकते हैं तो क्रिकेट भी खिला सकते हैं, हाईकोर्ट ने की टिप्पणी

Home›   City & states›   highcourt comment at RCA disputes

अमर उजाला टीम​ डिजिटल/जयपुर

highcourt comment at RCA disputes

राजस्थान हाईकोर्ट ने आरसीए में चल रहे विवाद के मामले के कहा कि जब तक आरसीए अपने आंतरिक मतभेद समाप्त नहीं करेगा, तब तक न तो बीसीसीआई से निलंबन समाप्त होगा और न ही कुछ और काम हो पाएगा। इसके साथ ही अदालत ने बीसीसीआई के प्रार्थना पत्र को मंजूर करते हुए उसे सहयोगी स्टाफ को बदलने की छूट दे दी है। वहीं सुनवाई के दौरान आरएस नांदू की ओर से कहा आगामी सुनवाई तक उनकी ओर से आरसीए की निलंबन को लेकर बीसीसीआई के खिलाफ लंबित दावे को वापस ले लिया जाएगा। दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने मामले की सुनवाई 25 अक्टूबर को तय की है। न्यायाधीश मनीष भंडारी की एकलपीठ ने यह आदेश जयपुर जिला क्रिकेट संघ की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए दिए। सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि अदालत का रुख साफ है कि खेल के विकास के लिए यदि आपस में विवाद तय नहीं किया गया तो अदालत इसमें हस्तक्षेप करेगा। अदालत ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि कोई पदाधिकारी कोर्ट से खेलना चाहेगा तो कोर्ट उचित कदम उठाएगी। अदालत ने कहा कि जब जज कोर्ट चला सकते हैं तो क्रिकेट भी खिला सकते हैं।
Share this article
Tags: rajasthan , hindi news in rajasthan , jaipur hindi news ,

Also Read

आरसीए मामला : आपस में सुलझा ले विवाद, कोर्ट नहीं होने देगा खेल-खिलाड़ियों का नुकसान

मोदी की क्रिकेट से विदाई, लौटेंगें राजस्थान क्रिकेट के अच्छे दिन

ललित मोदी की 'पारी घोषित', दिया तीन पेज का इस्तीफा

Most Popular

Bigg Boss 11: वोटिंग लाइन बंद होने के बावजूद इस कंटेस्टेंट को घर से निकाल देंगे सलमान

3 लाख में मारुति बलेनो को बना दिया मर्सिडीज, RTO ने देखा तो कर दी सीज

साबरमती में कूदने से पहले बुमराह के दादा ने इन्हें किया था फोन, रोते-रोते बताई थी सुसाइड की वजह

नदी में मिली क्रिकेटर बुमराह के दादा की लाश, गांव से आए थे पोते से मिलने

शशि कपूर के इस बेटे को बॉलीवुड ने नकारा था, आज ये काम कर दुनिया भर में कमा रहा नाम

Bigg Boss 11: इस कंटेस्टेंट की वर्जिनिटी को लेकर हिना और प्रियांक ने उड़ाया मजाक