शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

कठुआ सामूहिक दुष्कर्म: बचाव पक्ष ने आरोपियों को बताया बेकसूर, 10 दिनों में सुनाया जा सकता है फैसला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पठानकोट(पंजाब) Updated Thu, 30 May 2019 01:01 PM IST
विज्ञापन
फाइल फोटो

विज्ञापन मुक्त विशिष्ट अनुभव के लिए अमर उजाला प्लस के सदस्य बनें

Subscribe Now
बहुचर्चित कठुआ सामूहिक दुष्कर्म व हत्या मामले में बचाव पक्ष ने सातों आरोपियों को बेकसूर बताया है। वहीं अगले दस दिनों में केस का फैसला सुनाया जा सकता है। केस की सुनवाई इन दिनों पठानकोट की अदालत में चल रही है। बुधवार को हुई सुनवाई में बचाव पक्ष के वकीलों ने जांच करने वाली स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) की जांच पर सवाल उठाए हैं।

बुधवार दोपहर एक बजे शुरू हुई सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष के वकील एके साहनी और मोहित वर्मा ने बहस शुरू की। जानकारी देते हुए डिफेंस काउंसिल के वकील मास्टर मोहन लाल ने कोर्ट से बाहर निकलकर कहा कि एसआईटी और अभियोजन ने जो थ्योरी बनाई है, उसमें दम नजर नहीं आ रहा।

जांच रिपोर्ट में बताया गया कि एसएचओ ने पीड़िता के कपड़े धोए, लेकिन पूरे मामले का एक भी चश्मदीद गवाह अभियोजन पक्ष सामने नहीं ला पाया। एसआईटी अभी तक हादसे के असली मुजरिमों तक नहीं पहुंच पाई है।
विज्ञापन

चाहे सातों आरोपी छूट जाएं, लेकिन एक भी बेकसूर को सजा न मिले

मास्टर मोहल लाल ने कहा कि बच्ची से दुष्कर्म के बाद कत्ल किया गया, जिस पर हमें भी अफसोस है, लेकिन एसआईटी की निष्पक्ष जांच सवालों के घेरे में है। हमारी मंशा है कि चाहे सातों आरोपी छूट जाएं लेकिन एक भी बेकसूर को सजा नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि बाकी कानून अपना काम करेगा। मास्टर मोहन लाल ने संभावना जताई कि 10 दिनों के भीतर मामले का फैसला सुनाया जा सकता है।

3 घंटे बहस के बाद टली बहस
जानकारी के मुताबिक, बचाव पक्ष के वकील एडवोकेट एके साहनी ने सरकारी वकील के साथ अपनी बहस शुरू की। करीब तीन घंटे अभियोजन पक्ष तथा बचाव पक्ष के बीच चली इस बहस के बाद आगामी सुनवाई को टाल दिया गया। वहीं दूसरी ओर एसपीओ सुरेंद्र कुमार के वकील मोहित वर्मा ने भी उनके बचाव में बहस शुरू कर दी है।
विज्ञापन

ये है मामला

जम्मू के कठुआ में 10 जनवरी 2018 को 8 साल की बच्ची लापता हो गई थी। 7 दिनों बाद उसकी लाश क्षत-विक्षत हालत में मिली। मामले में आठ आरोपी हैं- मंदिर का संरक्षक सांझी राम, उसका बेटा विशाल और भतीजा, एसपीओ सुरेन्द्र कुमार, विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया, सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता, हेड कांस्टेबल तिलक राज और प्रवेश कुमार।

बच्ची अपने परिवार के साथ रहती थी। बच्ची खानाबदोश मुस्लिम समुदाय से थी। उस बकरवाल समुदाय से, जो कठुआ में अल्पसंख्यक है। 10 जनवरी को घोड़ों को चराने के लिए आसपास के जंगलों में निकली बच्ची घर नहीं लौट पाई। बच्ची के पिता ने 12 जनवरी को हीरानगर थाने में शिकायत दर्ज कराई। 17 जनवरी को जंगल में बच्ची की लाश मिली।

उसके बाद जांच पड़ताल करके आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के खिलाफ क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट 10 अप्रैल को दाखिल की। इन दिनों केस की सुनवाई पंजाब के पठानकोट में चल रही है। जिला एवं सत्र जज तेजविंदर सिंह इस मामले की सुनवाई कर रहे हैं। पीड़ित परिवार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने यह मामला कठुआ अदालत से पठानकोट स्थानांतरित किया था।

कोर्ट ने 8 जून 2018 को सात आरोपियों के खिलाफ बलात्कार और हत्या के आरोप तय किए थे। केस में कुल 221 गवाह बनाए गए हैं। 55वें गवाह के रूप में पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर पेश हुए। 56वें गवाह के रूप में फोरेंसिक साइंस लैबोरेटरी के एक्सपर्ट को पेश किया गया।



 
विज्ञापन

Recommended

kathua kathua gangrape kathua gangrape case kathua news kathua case news kathua update
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Recommended Videos

Most Read

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।