एचआईसी प्रबंध समिति के खिलाफ प्रदर्शन

Home›   City & states›   Demonstrate against

banda

Demonstrate against PC: amar ujala

 हिंदू इंटर कॉलेज बचाओ अभियान के तहत तमाम राजनीतिक दलों व छात्र नेताओं ने तहसील परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। उप जिलाधिकारी को डीएम को संबोधित ज्ञापन सौंपा। डीएम ने चार प्रशासनिक अधिकारियों की संयुक्त टीम गठित कर जांच रिपोर्ट मांगी है। आंदोलनकारियों का आरोप है कि फर्जी कमेटी का चुनाव झांसी में कराया जा रहा है। बुधवार को अधिवक्ता अमर सिंह राठौर की अगुवाई में प्रदर्शनकारियों ने कहा कि कॉलेज ऐसे लोगों के हाथों पर है, जिनका वास्ता कालेज से दूर-दूर तक कभी नहीं रहा। कॉलेज की स्थापना 1944 में हुई थी। उस समय से लगातार गया प्रसाद पांडेय 1975 तक प्रबंधक रहे। उनके हटने के बाद साधिकार नियंत्रक एसडीएम नरैनी को बनाया गया। आजीवन सदस्यों में अब कोई जीवित नहीं है। साधिकार नियंत्रक ने 1138 संभ्रांत नागरिकों को आजीवन सदस्य बनाया था। 1948 में इसे इंटर कॉलेज का दर्जा मिला। आरोप लगाया कि चंदवारा निवासी रामदास सिंह फर्जी कमेटी गठित कर सब रजिस्ट्रार झांसी व जिला विद्यालय निरीक्षक से मिलकर हमीरपुर, फतेहपुर, तिंदवारी के बाशिंदों को सदस्य बना दिया। पुरुषोत्तम पांडेय, अरविंद कुमार पांडेय, छात्र नेता नीरज द्विवेदी, विजय कुमार गुप्ता, भाजपा नगर अध्यक्ष अनिल सैनी, सपा नगर अध्यक्ष संजय साहू, भाजपा नेता सुनील खरे, अधिवक्ता अवनीश तिवारी, सूरज वाजपेयी, राजेश द्विवेदी, लक्ष्मण सिंह गौतम, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष विवेक बिंदु तिवारी, राजबहादुर सिंह, रामलीला कमेटी अध्यक्ष कालिका राय शिवहरे, श्यामबाबू गुप्ता, प्रधान अशोक सिंह, ईदगाह मस्जिद अध्यक्ष हनीफ चाचा, अधिवक्ता विनोद तिवारी, शिवशंकर मिश्रा आदि मौजूद रहे। 
Share this article
Tags: विरोध प्रदर्शन ,

Most Popular

एक्स ब्वॉयफ्रेंड ने देखी अनुष्‍का की हनीमून फोटो, फिर तुरंत दिया कुछ ऐसा रिएक्‍शन

अनुष्‍का-विराट की हनीमून फोटो पर 1 घंटे में 9 लाख से ज्यादा लाइक, तेजी से हो रही वायरल

क्या आप जानते हैं क‌ितने पढ़े-ल‌िखे हैं कांग्रेस के 49वें अध्यक्ष राहुल गांधी, नाम भी बदलना पड़ा

विराट-अनुष्का की शादी में एक मेहमान का खर्च था 1 करोड़, पूरी शादी का खर्च सुन दिमाग हिल जाएगा

आधार देकर बैंक खाता खुलवाने वालों के लिए खड़ी हुई नई मुसीबत, पढ़ लें नहीं तो पछताएंगे

बेटी के बैग में इस्तेमाल हुए कंडोम देख मां ने कर दिया केस, अब कोर्ट ने लिया ऐसा फैसला