एप डाउनलोड करें
विज्ञापन

और खिलवाड़ नहीं: प्रकृति को समझने में तीन गुना जागरूक हुए भारतीय

अमर उजाला रिसर्च टीम, नई दिल्ली Published by: Jeet Kumar Updated Wed, 19 May 2021 06:44 AM IST

सार

जंगल कटने, अनियोजित मछली पकड़ने, जीव प्रजातियों और परिस्थितिकी तंत्र तबाह होने के परिणाम अब सामने आने लगे हैं।  
Trending Videos
सांकेतिक तस्वीर...
सांकेतिक तस्वीर... - फोटो : istock

विस्तार



ये दावे वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) की इकोनामिक इंटेलिजेंस यूनिट ने नए शोध में किए हैं। अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के परिप्रेक्ष्य में जारी इस रिपोर्ट के अनुसार पूरी दुनिया में 2016 से 2020 के बीच पर्यावरण को लेकर चिंता जताने वाले नागरिकों की संख्या 16% बढ़ी है। विकासशील देशों में नागरिक ज्यादा सचेत होने लगे हैं। इसे 'इको अवेकनिंग' नाम दिया गया है। उन्हें पारिस्थितिकी तंत्र तबाह होने के परिणाम समझ आ रहे हैं।


डिजिटल एक्टिविज्म बढ़ा 

ट्विटर पर ही पर्यावरण के मुद्दों पर 65% ज्यादा चर्चा हो रही है। प्रकृति और जैव विविधता जैसे शब्दों का उपयोग तीन करोड़ से बढ़कर पांच हो चुका है। 
  • कई राजनेता, धार्मिक नेता और अन्य प्रभावशाली व्यक्तित्व व संगठन इस बारे में बात कर रहे हैं, जिससे 100 करोड़ से ज्यादा लोगों तक पर्यावरण संरक्षण के संदेश पहुंच रहे हैं। 

भारत में 190% अधिक गूगल सर्च 
  • भारत में प्रकृति से जुड़े विषयों पर 190 % ज्यादा गूगल सर्च।
  • ट्विटर पर 2016 में 2,32,000 ट्वीट के मुकाबले 2020 में 15,00,000 ट्वीट जैव विविधता विनाश विषयों पर। 
  • आवाज अभियान में 4.80 लाख नागरिकों ने हस्ताक्षर किए।
  • अखबारों में इन विषयों पर 2016 में 1,33,888 लेख प्रकाशित हुए , 2020 में आंकड़ा 1,68,556 पहुंच गया। 
  • परिणाम अक्तूबर 2020 में नजर आया, जब महाराष्ट्र सरकार ने आरे नामक जंगलों को संरक्षित घोषित किया।

खतरे बरकरार
  •  जागरूकता बढ़ने के बावजूद प्रकृति को लेकर खतरे अभी बरकरार हैं। 
  • अमेजन बेसिन से रोजाना 150 एकड़ वन जलाए और काटे जा रहे हैं।
  • अगले कुछ दशकों में 10 लाख ज्यादा जीवों की प्रजातियां खत्म हो जाएंगी।
  • पृथ्वी पर करीब 80 लाख जीव-जंतुओं की प्रजातियां निवास करती हैं।
Follow Us
विज्ञापन
विज्ञापन
MORE