बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

शहर चुनें

टीके की दोनों डोज लेना है आवश्यक: जिला प्रतिरक्षण अधिकारी

झांसी ब्यूरो Updated Sat, 08 May 2021 02:10 AM IST
विज्ञापन

विज्ञापन मुक्त विशिष्ट अनुभव के लिए अमर उजाला प्लस के सदस्य बनें

Subscribe Now
ललितपुर। देश इस समय कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है। संक्रमण से बचने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन और वैक्सीन ही बचाव है। विभिन्न चरणों में स्वास्थ्य कर्मी, विभिन्न आयु वर्ग और फ्रंटलाइन वर्कर को वैक्सीन दी जा चुकी है। टीकाकरण केंद्रों पर अब सिर्फ उन का टीकाकरण होगा, जिन लोगों ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया है। कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण की दोनों डोज लेना आवश्यक है।
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. हुसैन खान ने बताया कि शासनादेश के अनुसार अब प्रथम डोज लेने वाले लोगों का टीकाकरण ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से होगा। प्रथम डोज लेने वाले लोगों के लिए ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की सुविधा अगले आदेश तक स्थगित कर दी गई है। दूसरा डोज लेने वाले लोगों को टीकाकरण केंद्रों पर पहले की तरह ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की सुविधा उपलब्ध रहेगी। 18 से 44 वर्ष उम्र वाले लोगों का टीकाकरण अभी जनपद में शुरू नहीं हुआ है। टीकाकरण के लिए उन्हें भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

उन्होंने बताया कि संक्रमण से पूर्ण बचाव के लिए वैक्सीन के दोनों डोज लगवाना आवश्यक है। इसके बाद ही शरीर में रोग से लड़ने कि क्षमता पैदा होती है। टीकाकरण होने के बाद भी मास्क लगाना, नियमित अंतराल पर हाथ धोना और उचित दूरी रखना आवश्यक है। अभी जनपद में दो वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन दी जा रही है। कोविशील्ड की पहली खुराक लेने के बाद दूसरी खुराक छह सप्ताह बाद दी जाती है। कोवैक्सीन कि पहली डोज के बाद चार सप्ताह के अंतराल पर दूसरी खुराक दी जाती है। दोनों डोज लेने के दो सप्ताह बाद शरीर में वायरस से लड़ने कि क्षमता विकसित होने लगती है।
------
ऐसे काम करती है वैक्सीन
वैक्सीन किसी भी बीमारी या संक्रमण से लड़ने में मदद करती है। वैक्सीन लगने के बाद शरीर में बीमारी से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बन जाती है। जब शरीर में संक्रमण होता है तो यह एंटीबाडी शरीर को सुरक्षा प्रदान करती है और बीमारी से बचाती है। अक्सर वैक्सीन लगने के बाद हल्का बुखार, बदन दर्द होता है, इसका यह मतलब नहीं होता है कि वैक्सीन नुकसान कर रही है, बल्कि इससे यह समझ आता है कि वैक्सीन शरीर में पहुंचकर अपना काम कर रही है। कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए 60 से 70 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण होना आवश्यक है। प्रतिरक्षित व्यक्ति खुद भी संक्रमण से सुरक्षित रहता है और दूसरे को भी सुरक्षा प्रदान करता है।
- डा. हुसैन खान
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी
---------
विभिन्न वर्गों में वैक्सीनेशन की स्थिति
-----
हेल्थकेयर वर्कर्स प्रथम डोज- 4,199, द्वितीय डोज- 2,965, प्रतिशत 86.29
फ्रंटलाइन वर्कर्स - प्रथम डोज- 4,321, द्वितीय डोज- 3,058, प्रतिशत 86.20
45 से 59 वर्ष के लाभार्थी - प्रथम डोज- 25,149, द्वितीय डोज- 367
60 से अधिक उम्र के व्यक्ति - प्रथम डोज- 30,407, द्वितीय डोज- 3,110
विज्ञापन

Latest Video

Recommended

Next

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।