रंज-ओ-गम के बीच सुपुर्द-ए-खाक हुए ताजिये

Home›   City & states›   Along with the pip-o-gum, there is a delivery-e-Khak

अमर उजाला ब्यूरो हाथरस। 

Along with the pip-o-gum, there is a delivery-e-KhakPC: Amar Ujala

मुहर्रम की दस तारीख को हजरत मोहम्मद साहब के नवासे हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद में शहर में रविवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा ताजियों और अलमों के जुलूस निकाले गए। शहर के अलग-अलग इलाकों से निकले यह जुलूस घंटाघर पहुंचकर एक हो गए और यहां से एक साथ मुरसान गेट स्थित कर्बला पहुंचे। वहां रंज-ओ-गम के माहौल में ताजियों को सुपुर्द-ए-खाक किए गए।   जुलूस में शामिल अकीदतमंदों ने मर्सिए और नौहे पढ़कर माहौल को गमजदां कर दिया। लोगों की आंखें भर आईं। इस मौके पर शिया नौजवानों ने जहां छुरियों और जंजीरों से मातम कर अपने जिस्म को लहूलुहान कर लिया। वहीं सुन्नी अकीदतमंद भी छाती पीटकर इमाम हुसैन और उनके जानिसारों की शहादत का रंज मना रहे थे। ताजिए के जुलूस के दौरान शहर में कई स्थानों पर जाम से भी लोग जूझते रहे। ताजियों के यह जुलूस किला गेट, कांशीराम टाउनशिप, लाला का नगला और कैलाश नगर इलाकों से निकाले गए। अलग-अलग रास्तों से होते हुए यह जुलूस घंटाघर पहुंचकर एक हो गए। जुलूस के साथ चल रहे अकीदतमंद इमाम हुसैन और उनके 71 जानिसारों की शहादत की याद में मर्सिए और नौहे गाकर माहौल को गमगीन बना रहे थे। नौजवान भी छाती पीटकर मातम करते हुए हुसैन की सदाएं बुलंद कर रहे थे। 
Share this article
Tags: muhrram ,

Most Popular

थमती नहीं दिख रही सलमान-शिल्पा की मुश्किलें, अब मुंबई में केस दर्ज करने की मांग

1100 रुपए आपकी लाडली को बनाएंगे करोड़पति, कैसे? जानिए यह स्कीम

भंसाली की 'पद्मावत' 25 को तो जौहर ज्वाला का कार्यक्रम 24 को, क्षत्राणियों ने की तैयारी..

अमिताभ संग इजरायली पीएम की सेल्फी जीत लेगी आपका दिल, बॉलीवुड के जबरा फैन निकले बेंजामिन नेतन्याहू

पाक के खिलाफ भारत की नीतियों को नेतन्याहू का सपोर्ट, बोले- सेफ्टी जरूरी

शुक्रिया पाठकों... अमर उजाला है देश का तीसरा सबसे बड़ा अखबार