नहीं किया स्वांग, तो भरना होगा जुर्माना

Home›   City & states›   नहीं किया स्वांग, तो भरना होगा जुर्माना

Kanpur Bureau

मुहम्मदाबाद । बुंदेलखंड में शरद पूर्णिमा के दिन टेसू झिंझिया के विवाह में लोग सामर्थ्य के अनुरूप खर्च करते हैं, लेकिन जालौन और हमीरपुर जिले से सटे गांव मुहाना में इस विवाह को लेकर अजब परंपरा है। विवाह के दिन यहां मेला लगता है। गांव के प्रत्येक घर से एक व्यक्ति को स्वांग करना पड़ता है। इस स्वांग में प्रधान से लेकर छोटे, बड़े सभी शामिल होते हैं। रिश्तेदारों की आमद हर घर में होती है। गांव में जो भी इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होता है तो उसे जुर्माना भरना पड़ता है। इस बार भी गुरुवार को इसी परंपरा को पूरे उत्साह से निभाया गया।हर वर्ष शरद पूर्णिमा के दिन गांव में लोग एकत्र होकर इस रस्म को पूरा करते हैं। विवाह पूरे विधि विधान से कराया जाता है। बैंड-बाजे, आतिशबाजी और नाच-गाना होता है। इसके बाद गांव के लोग स्वांग रचाते हैं। वह वेश बनाकर पूरे गांव में घूमते हैं। ग्राम प्रधान ढोल बजाते हुए आगे चल कर पूरे गांव भर में घूमते हैं। सभी फकीर, साधु, देवी देवताओं, जोकर, डकैत, पुलिस आदि की वेशभूषा रख कर गांव में एक जगह एकत्र होते हैं। इसके बाद अलग-अलग वाहनों पर झांकियां निकाली जाती है। यह कार्यक्रम तीन दिन तक चलता है। इसमें गांव के लोगों के साथ-साथ गांव के रिश्तेदारों व अन्य क्षेत्रीय लोगों का भरपूर मनोरंजन होता है। वहीं मेले में लोग खरीदारी कर झूलों का भी लुत्फ उठाते हैं।मुहाना गांव में दशकों पुरानी है परंपरामुहाना गांव के बुजुर्ग फूल सिंह, रामप्रसाद, नारायणदास, हीरालाल, मलखान सिंह, बद्रीप्रसाद ने बताया कि हमें हमारे बुजुर्गों के समय से ही ऐसे कार्यक्रम गांव में होते हुए मिले थे। हम इन परंपराओं का निर्वहन करते हैं। पहले यह कार्यक्रम पांच दिन तक चलता था, लेकिन अब यह सिर्फ तीन दिन में सिमट कर रह गया है। कार्यक्रम कमेटी के अध्यक्ष जय प्रकाश, मान सिंह, प्रधान वीर सिंह, मंगल सिंह, सुघर सिंह, शिव कुमार राजपूत ने बताया कि इस कार्यक्रम में गांव के प्रत्येक घर के एक सदस्य को स्वांग में शामिल होना जरूरी है। वह चाहे अमीर हो या गरीब, अगर किसी के घर का कोई सदस्य स्वांग नहीं कर रहा है तो उसे कमेटी को जुर्माना देना पड़ता है, जो पहले 500 रुपये था, अब 1000 रुपये है।-टेसू झिंझिया के विवाह पर मुहाना गांव की अजब परंपरा, गांव में लगता है मेलाअमर उजाला ब्यूरो
Share this article
Tags: ,

Most Popular

लेडी प्रिंसीपल के कातिल छात्र ने बताई 'गुरु' को मारने की वजह, 7 बड़े खुलासे

लाभ का पद: #AAP के 20 विधायकों की 'कुर्सी' गई, EC की सिफारिश पर राष्ट्रपति की मुहर

#AAP ने राष्ट्रपति के निर्णय को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, कहा- HC से SC तक लड़ेंगे न्याय की लड़ाई

52 की उम्र में चौथी बार बाप बनना चाहते हैं शाहरुख, बच्चे के नाम का भी कर दिया खुलासा

शाह और योगी की सभा में कुर्सियां रह गई खाली, भरने के लिए पुलिस ने लगाया ये जुगाड़

PHOTOS: '...न मैं उसके साथ रह पा रही हूं और न ही छोड़ पा रही हूं', FB पर अपलोड कर गंगा में कूद गई