शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

Kajal Sharma Updated Thu, 21 Jan 2016 08:07 PM IST
विज्ञापन
1 of 12

विज्ञापन मुक्त विशिष्ट अनुभव के लिए अमर उजाला प्लस के सदस्य बनें

Subscribe Now
यूपी के कानपुर जिले के घाटमपुर में 250 साल पुराना एक बेहद दुर्लभ पेड़ पाया गया है। वैज्ञानिक महत्व होने के साथ इस पेड़ से बेहद रोचक प्रेम कहानियां जुड़ी हैं।
विज्ञापन

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

2 of 12
यूपी के कानपुर जिले के घाटमपुर में 250 साल पुराना बेहद दुर्लभ पेड़ पाया गया है। इसे कल्प वृक्ष या पारिजात पेड़ के नाम से भी जानते हैं। ये पेड़ पूरे भारत में बहुत ही कम जगहों पर पाया जाता है। पुराणों में इससे जुड़ी कई रोचक कहानियां हैं साथ ही इस पेड़ का बड़ा वैज्ञानिक महत्व भी है। इस पेड़ को पुत्रजीवा वृक्ष भी कहा जाता है।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

3 of 12
ये अति दुर्लभ कल्प वृक्ष घाटमपुर क्षेत्र के नंदना और तेजपुर गांवों के बीच पाया गया है। बुधवार को कृषि अनुसंधान केंद्र, दलीप नगर (कानपुर देहात) के कृषि वैज्ञानिकों ने पेड़ का निरीक्षण किया और बताया कि ऐसा ही एक वृक्ष कानपुर देहात जिले के भुजपुरा गांव के पास भी मिला है।
विज्ञापन

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

4 of 12
घाटमपुर-गजनेर मार्ग स्थित नंदना गांव में प्राचीन शिव मंदिर है। गांव के बुजुर्गों के मुताबिक कहा जाता है कि मंदिर के निर्माण के समय यहां पेड़-पौधे लगवाए गए थे। तभी कल्प का पौधा भी लगवाया गया होगा। आगे जानें इस पेड़ से जुड़ी बेहद रोचक मान्यताएं...

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

5 of 12
पारिजात वृक्ष को कल्प वृक्ष भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसकी उत्पत्ति समुद्र मंथन से हुई थी। शास्त्रों में कहा गया है कि मंथन से निकलने के बाद इंद्र देव ने इसे स्वर्ग में अपनी वाटिका में लगाया था।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

6 of 12
इस पेड़ से जुड़ी एक और मान्यता के मुताबिक पारिजात नाम की एक राजकुमारी को भगवान सूर्य से प्यार हो गया था। बहुत कोशिशों के बाद भी सूर्य भगवान ने उसका प्यार स्वीकार नहीं किया। दुखी होकर पारिजात ने आत्महत्या कर ली। जहां पारिजात की समाधि बनाई गई वहां से एक पेड़ उगा जिसका नाम राजकुमारी के नाम पर पारिजात पड़ गया।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

7 of 12
माना जाता है कि ये पेड़ सूर्य को देखकर खिल उठता और रात के सूर्य डूबते ही ऐसा लगता है जैसे ये पेड़ रो रहा है।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

8 of 12
ऐसा माना जाता है कि परिजात के वृक्ष की खासियत है कि जो भी इसे एक बार छू लेता है उसकी थकान मिनटों में गायब हो जाती है। हरिवंशपुराण के अनुसार इंद्र की अप्सरा उर्वशी परिजात के वृक्ष को छूकर ही अपनी थकान मिटाती थी।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

9 of 12
पारिजात के फूलों की एक कहानी रुक्मिणी के प्रति श्रीकृष्ण के प्रेम और इस पर सत्यभामा की जलन से जुड़ी है। पौराणिक कथा के मुताबिक एक बार नारद ऋषि इन्द्रलोक से इस वृक्ष के कुछ फूल लेकर कृष्ण के पास गए। कृष्ण ने ये फूल पास बैठी रुक्मिणी को दे दिए। इस बात का पता सत्यभामा को चला तो वह नाराज हो गईं और पारिजात के फूल लाने की जिद करने लगीं।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

10 of 12
सत्यभामा के रूठ जाने पर कृष्ण अपनी पत्नी सत्यभामा के साथ इन्द्रलोक पहुंचे। पहले तो इन्द्र ने यह वृक्ष पृथ्वी लोक के लिए सौंपने से मना कर दिया बाद में उन्हें यह वृक्ष देना पड़ा। जब कृष्ण परिजात का वृक्ष ले जा रहे थे तब गुस्साए इन्द्र ने वृक्ष को यह श्राप दे दिया क‌ि इस वृक्ष के फूल दूर जाकर गिरेंगे। इसलिए वृक्ष लगा तो सत्यभामा की वाटिका में था लेकिन फूल रुक्मिणी की वाटिका में गिरते थे। आज भी ऐसा देखा जा कि पारिजात के फूल पेड़ से दूर जाकर गिरते हैं।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

11 of 12
पारिजात के पेड़ के वैज्ञानिक महत्व भी हैं। कृषि अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिकों डॉ. अशोक कुमार और डॉ. अरविंद कुमार ने बताया कि यह दुर्लभ प्रजाति का वृक्ष है। पूरे कानपुर मंडल में फिलहाल इस प्रजाति के सिर्फ दो ही पेड़ मिले हैं। कृषि वैज्ञानिकों ने बताया कि यह वृक्ष सेमल प्रजाति से मिलता-जुलता है। कई बार सेमल के पेड़ और फूल को लोग पारिजात समझ लेते हैं।

एक अधूरी प्रेम कहानी के चलते रात में रोता है ये पेड़!

12 of 12
विशेष औषधीय गुणों के चलते यह विशेष वृक्ष माना जाता है। ऐसे अन्य वृक्षों की खोज करने के साथ सूची तैयार की जा रही है। इस पेड़ की छाल से लेकर पत्तियां तक आयुर्वेद और औषधियां बनाने में इस्तेमाल की जाती हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।