शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बुढ़ापे से बचना चाहते हैं तो तनाव से रहें दूर, इन बातों का रखें विशेष ध्यान

न्यूज डेस्क/अमर उजाला, लखनऊ Updated Mon, 22 Jul 2019 04:27 PM IST
1 of 5
Tension Student
तनाव इंसान को समय पहले बूढ़ा बना देता है। महिलाओं में तनाव की प्रवृत्ति पुरुषों के मुकाबले करीब तीन गुना अधिक होती है। महिलाओं में तनाव के कारण न सिर्फ मानसिक व शारीरिक बीमारियां होती हैं बल्कि खूबसूरती भी छीन लेती है। तनाव के कारण आने वाले हार्मोनल बदलावों से समय से पहले बुढ़ापा आने की संभावना भी कई गुना बढ़ जाती है। अगर हमेशा जवां और खूबसूरत रहना है तो तनाव को अपने पास भटकने भी न दें। केजीएमयू के मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. आदर्श त्रिपाठी बता रहे हैं तनाव से होने वाली परेशानी और इससे दूर रहने के उपाय...
विज्ञापन

2 of 5
डॉक्टर आदर्श त्रिपाठी - फोटो : अमर उजाला
तनाव से हार्मोनल बदलाव के समय बढ़ सकती है समस्या
महिलाओं में समय-समय पर हार्मोनल बदलाव होतेे रहते हैं। फिर चाहे वो पीरियड शुरू होने के समय, गर्भावस्था व उसके बाद या मीनोपॉज के समय और उसके बाद। ऐसे में अगर महिलाएं तनाव में रहती हैं तो उन्हें हार्मोनल डिस्बैलेंस का सामना करना पड़ता है। इससे उनमें माहवारी से संबंधित समस्याएं, पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओडी), डायबिटीज व हृदय की बीमारियां और इम्युनिटी कमजोर होने पर सांस, गैस और कॉमन कोल्ड जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

3 of 5
प्रतीकात्मक तस्वीर
एंटी ऑक्सीडेंट्स की कमी छीन सकती हैं खूबसूरती
अधिक समय तक तनाव में रहने से शरीर में एंटी ऑक्सीडेंट्स की कमी हो जाती है, जिससे एजिंग प्रोसेस तेजी से बढ़ने लगता है। इससे त्वचा बूढ़ी होने लगती है। साथ ही बाल भी गिरने लगते हैं। इसके साथ ही स्किन पर डलनेस, मुहासे व सोरायसिस (त्वचा संबंधित बीमारी) होने की संभावना भी काफी बढ़ जाती है। अधिक स्ट्रेस मोटापे के लिए भी जिम्मेदार होता है।

4 of 5
प्रतीकात्मक तस्वीर
बढ़ रही जेनेटिक एजिंग
नई शोध में पाया गया है कि गर्भावस्था के दौरान यदि मां ज्यादा तनाव में रहती है तो उसका असर बच्चे की शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है और उसमें भी आगे जाकर डायबिटीज हाइपरटेंशन समेत जल्द बुढ़ापे की प्रवृत्ति बढ़ जाती है, जिसे जेनेटिक एजिंग भी कहते हैं।

5 of 5
प्रतीकात्मक तस्वीर
इन बातों का रखें खयाल
- तनाव में कैफीन, निकोटीन व एल्कोहल का सेवन न करें।
- नियमित रूप से एक्सरसाइज करें।
- पर्याप्त नींद लें।
- अकेले न रहें। दोस्तों से अपनी समस्या साझा करें।
- समस्याओं से भागने के बजाए उनका समाधान ढूंढे।
- मुस्कुराएं और खुश रहने की कोशिश करें।
- मेडिटेशन सबसे कारगर।
- एंटी ऑक्सीडेंट्स युक्त पदार्थों (फलों आदि) का सेवन करें।
- विटामिन-ए, बी सी युक्त पदार्थों का सेवन करें।
- तनाव को कम करने के लिए डायरी का सहारा लें।
- दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताएं।
- गहरी सासें लें।
- तनाव कम करने के लिए शराब या दवाओं का सहारा न लें
 
विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।