शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

बुरे से बुरे दिनों में भी कमल खिलाने वाले पश्चिम यूपी में लगा भाजपा को सबसे बड़ा झटका

न्यूज डेस्क, अमर उजाला लखनऊ Updated Sat, 25 May 2019 03:03 PM IST
भाजपा - फोटो : amar ujala
भारतीय जनता पार्टी की जीत का क्षेत्रवार विश्लेषण करें तो बुरे से बुरे दिनों में भी कमल खिलाने वाले पश्चिम में ही उसे बड़े झटके का सामना करना पड़ा है। भाजपा को प्रदेश में जिन 16 सीटों पर पराजय का सामना करना पड़ा है, उनमें सात सिर्फ पश्चिमी यूपी की हैं। वर्ष 2014 में इन सभी 16 सीटों पर भाजपा को जीत हासिल हुई थी। 

कानपुर और बुंदेलखंड में सभी सीटों पर मोदी का जादू कायम रहा है जबकि अवध में भी भाजपा अव्वल रही है। अवध में भाजपा को दो सीटें गंवानी पड़ी हैं, लेकिन अमेठी की करिश्माई जीत ने एक सीट की भरपाई कर दी है। साथ ही एक अन्य सीट के नुकसान को भी महसूस नहीं होने दिया।  
विज्ञापन

पश्चिम क्षेत्र में जीती सीटें गंवाई 

पश्चिम क्षेत्र की 14 सीटों में से भाजपा का स्कोर 50-50 का रहा है। सात सीटों पर भाजपा ने बाजी मारी है, जबकि सात सीटें सपा-बसपा गठबंधन के खाते में गई हैं। गाजियाबाद, मेरठ, बागपत, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, कैराना और मुजफ्फरनगर में भाजपा जीती। पर, मुरादाबाद, संभल, बिजनौर, नगीना, अमरोहा, रामपुर और सहारनपुर सीटें उसे गंवानी पड़ी हैं।

बृज क्षेत्र में भाजपा को बढ़त
बृज क्षेत्र की 13 सीटों में से भाजपा ने 12 सीटें जीती हैं। यहां भाजपा को दो सीटों की बढ़त मिली है। अभी तक इस क्षेत्र की फिरोजाबाद, बदायूं और मैनपुरी सीट पर सपा के सांसद थे। इस बार सिर्फ मैनपुरी से सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव जीते हैं। फिरोजाबाद और बदायूं सीटें भाजपा ने जीत ली हैं। इसके अलावा आगरा, फतेहपुर सीकरी, मथुरा, अलीगढ़, हाथरस, एटा, बरेली, आंवला, शाहजहांपुर और पीलीभीत सीटों को भाजपा ने बरकरार रखा है।

कानपुर-बुंदेलखंड में एक सीट का लाभ

कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र की सभी 10 सीटों पर भाजपा ने परचम फहराया है। अभी तक यहां भाजपा के पास सिर्फ नौ सीटें थीं। कन्नौज सीट पर लंबे समय से सपा का कब्जा था। वहां से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव इस समय सांसद थीं। पर, इस चुनाव में भाजपा के सुब्रत पाठक ने उन्हें पराजित कर दिया। 

इसके अलावा कानपुर, अकबरपुर, फर्रुखाबाद, इटावा, झांसी, जालौन, बांदा, हमीरपुर और फतेहपुर सीट पर भाजपा ने अपना कब्जा बनाए रखा है। खास बात यह है कि बुंदेलखंड की चार सीटों हमीरपुर, बांदा, झांसी और जालौन को भाजपा ने अपने पास बनाए रखा है।

अवध में अमेठी ने किया करिश्मा

अवध क्षेत्र की 18 में से 15 सीटों पर भाजपा अपना कब्जा बरकरार रखने में सफल रही है। रायबरेली सीट पर कांग्रेस का कब्जा बना रहा, पर अमेठी में भाजपा ने स्मृति ईरानी केजरिये कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को हराने का करिश्मा कर दिखाया। 

इस क्षेत्र में भाजपा को अंबेडकरनगर और श्रावस्ती सीट गंवानी पड़ी, पर अमेठी की जीत ने इन सीटों के छिन जाने के जख्म पर मरहम का काम किया। अंबेडकरनगर और श्रावस्ती सीट गठबंधन के खाते में गई। बसपा के रितेश पांडेय अंबेडकरनगर और रामशिरोमणि श्रावस्ती से चुनाव जीते हैं। 

लखनऊ से राजनाथ सिंह और बड़े अंतर के साथ जीतने में कामयाब रहे। मेनका गांधी भी सुल्तानपुर से जीत गईं। मोहनलालगंज, उन्नाव, सीतापुर, हरदोई, धौरहरा, खीरी, मिश्रिख, फैजाबाद, बाराबंकी, बहराइच, गोंडा और कैसरगंज सीट भाजपा ने बरकरार रखी है।

काशी में दो सीटों का नुकसान

 काशी क्षेत्र की 12 सीटों में 10 सीटें एनडीए के खाते में गई हैं। गाजीपुर और जौनपुर में बसपा प्रत्याशी जीते हैं। रॉबर्ट्सगंज (सोनभद्र) से अपना दल (एस) के पकौड़ी लाल कोल और मिर्जापुर से अपना दल (एस) की अनुप्रिया पटेल चुनाव जीती हैं। वाराणसी, चंदौली, प्रतापगढ़, कौशांबी, इलाहाबाद, फूलपुर, मछलीशहर और भदोही में कमल खिला है।

गोरखपुर में दो सीटों का घाटा
गोरखपुर क्षेत्र की 13 सीटों से भाजपा का स्कोर 10 सीटों का रहा। पिछली बार 12 सीटें भाजपा के पास थीं। इस तरह उसे दो सीटों का घाटा रहा। आजमगढ़ सीट पिछली बार भी भाजपा के पास नहीं थी। इस बार भी नहीं रही। 

पर, पिछली बार जीती लालगंज और घोसी सीट भी इस बार भाजपा के हाथ से निकल गई। दोनों जगह गठबंधन जीता। गोरखपुर, देवरिया, बांसगांव, कुशीनगर, महराजगंज, बस्ती, ़डुमरियागंज, संत कबीरनगर, बलिया और सलेमपुर में भाजपा ने जीत दर्ज की। 
विज्ञापन

Recommended

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।