शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

लोकसभा चुनाव 2019: वोट शेयर के हिचकोलों से भाजपा-कांग्रेस में घबराहट, वोट प्रतिशत में बड़ी गिरावट

समीर शर्मा, अमर उजाला, जयपुर Updated Fri, 26 Apr 2019 05:47 AM IST
बीजेपी-कांग्रेस
राजस्थान में वसुंधरा राजे सरकार गंवाने से भी बड़ा दुख भाजपा को धड़ाम से गिरे वोट प्रतिशत ने दिया है। भाजपा को प्रदर्शन सुधारने के दबाव के साथ लोकसभा के मैदान में कांग्रेस से लड़ाई लड़नी है। इधर, बमुश्किल किनारे लग कर प्रदेश में सरकार बनाने वाली कांग्रेस को अपने बढ़े हुए वोट प्रतिशत को संभाले रखने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। कांग्रेस नेता इसलिए दबाव में हैं कि यहां जैसे-तैसे सरकार बनाने की मिली खुशी इस लोकसभा चुनाव में फीकी न पड़ जाए।

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के तुरंत बाद ही लोकसभा चुनाव आ जाते हैं और पार्टियों को फिर से चुनावी रण में उतरना होता है। दिसंबर 2018 में विधानसभा चुनाव का परिणाम भाजपा के खिलाफ आया और वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले वोट शेयर भी 16.14 प्रतिशत गिर गया। इस विधानसभा चुनाव में भाजपा का मत प्रतिशत 38.8 रहा, जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में ये 54.94 प्रतिशत था। 

गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने सभी 25 सीटें जीतकर ऐतिहासिक विजय हासिल की थी। वहीं, पिछले लोकसभा चुनाव से ठीक पहले दिसम्बर 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में प्रदेश में भाजपा का मत प्रतिशत 46.05 रहा था। भाजपा को तनाव इसलिए भी है कि हाल ही हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी इस आंकड़े से भी 7.25 प्रतिशत से पीछे रही। पार्टी पर पिछले लोकसभा चुनाव और विधानसभा 2013 के चुनाव परिणामों वाला किरश्मा फिर दिखाने का दबाव है। 
विज्ञापन

राज्य में सरकार के बाद कांग्रेस में लोकसभा सीटें हासिल करने की आस बढ़ी है। लेकिन, मत प्रतिशत के लिहाज से दोनों दलों के वोट प्रतिशत में ज्यादा अंतर नहीं रहा। कांग्रेस, भाजपा के मुकाबले मात्र 0.5 वोट शेयर ही अधिक हासिल कर सकी। कांग्रेस का वोट शेयर 39.80 प्रतिशत रहा, तो भाजपा का 38.8 प्रतिशत। कांग्रेस के लिए इतनी राहत जरूर थी कि 2014 के लोकसभा चुनाव की तुलना में इस विधानसभा चुनाव में वोट प्रतिशत ठीक-ठाक बढ़ा। 

लोकसभा 2014 में कांग्रेस का वोट प्रतिशत 30.36 था, जो गत दिसंबर के विधानसभा चुनाव में बढ़कर 39.3 हो गया। मोदी लहर के चलते 2014 के लोस चुनाव में वर्ष 2009 के मुकाबले कांग्रेस का वोट शेयर 16.83 प्रतिशत गिर गया था। वर्ष 2013 के विधानसभा व 2014 के लोस परिणाम से निराश कांग्रेस को दिसंबर 2018 के विधानसभा चुनाव में नई ऊर्जा व उत्साह मिला। भाजपा के तेज-तर्रार प्रचार के बीच कांग्रेस को अपने प्रदर्शन को इस लोकसभा चुनाव में भी बनाए रखने का भारी दबाव है।
विज्ञापन

Recommended

lok sabha elections 2019 election bjp congress lok sabha elections in rajasthan 2019 vote percentage vote percentage in rajasthan

Spotlight

विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।