शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

कैकेयी की तरह कोप भवन में बैठना समाधान नहीं, राहुल क्यों छोड़ना चाहते हैं अध्यक्ष का पद?

शशिधर पाठक, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 27 Jun 2019 07:33 AM IST
राहुल गांधी (फाइल फोटो) - फोटो : PTI
आप चाहे तो कांग्रेस के हर नेता से यह सवाल पूछ लीजिए, करीब नब्बे फीसदी इसका जवाब देंगे कि सही उत्तर जानना हो तो केसी वेणुगोपाल से पूछ लीजिए। आशय यह कि राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ने का सही कारण केवल चार लोगों को सही ढंग से पता है। इसमें पहला नाम खुद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का है। तीन और नाम क्रमश: यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल हैं। यह 2019 की नई कांग्रेस है।

क्यों छोड़ना चाहते हैं अध्यक्ष का पद?

कांग्रेस पार्टी के लगभग सभी सचिवों की जुबान पर राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने को लेकर केवल एक कारण है? आधा दर्जन सचिवों का कहना है कि राहुल गांधी लोकसभा चुनाव 2019 में हुई करारी हार का खुद को जिम्मेदार मानते हैं। उन्हें चुनाव से बहुत उम्मीद थी। उन्होंने कड़ी मेहनत की थी और कांग्रेस अध्यक्ष इसकी नैतिक जिम्मेदारी अपने ऊपर लेकर इस पद से मुक्त होना चाहते हैं। ताकि वह पद के बोझ से मुक्त होकर पार्टी को मजबूत बनाने में काम कर सकें। इसीलिए वह पार्टी के भीतर लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर जोर दे रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष यह भी चाहते हैं कि भविष्य में सभी नेताओं को जिम्मेदारी और जवाबदेही के दायरे में लाया जाये। कांग्रेस के नेताओं, सांसदों की यह आदर्श लाइन है, जो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के समर्थन में खड़ी है। लेकिन कोई यह नहीं बता पा रहे हैं राहुल गांधी के इस निर्णय और निर्णय पर अड़ने का कांग्रेस पार्टी के नेताओं, कार्यकर्ताओं और जनता के बीच में क्या संदेश जा रहा है?

क्या राहुल गांधी क्षुब्ध हैं?

हां। वह क्षुब्ध हैं। कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में करारी हार से हताश और निराश हैं। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें दोनों सदनों अपने अंदाज में खूब चिढ़ाया। उच्चपदस्थ सूत्र के अनुसार वास्तव में कांग्रेस अध्यक्ष हार और हार के बाद की इस स्थिति को हजम नहीं कर पा रहे हैं। वह लगातार अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े हैं। राहुल को भाजपा अध्यक्ष और प्रधानमंत्री का वंशवाद का तंज भी अखर रहा है। सूत्र बताते हैं कि यही वजह है कि वह नये कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में प्रियंका गांधी वाड्रा को भी नहीं देखना चाहते। राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की फौज से भी बुरी तरह नाराज हैं। उन्हें लग रहा है कि एक बड़े अवसर का 2019 के चुनाव में लाभ नहीं लिया जा सका। इसका कारण कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की खुद के अधिकार, लाभ, अस्तित्व तक सीमित राजनीति है। पार्टी के भीतर युवा और वरिष्ठ में तालमेल की कमी है। उन्होंने खुद भी लोकसभा चुनाव के नतीजे के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम, अशोक गहलोत और कमलनाथ पर अंगुली भी उठाई थी। 

क्या हार के जिम्मेदार राहुल गांधी हैं?

कांग्रेस के नेताओं के नजरिए से देखें तो जवाब मिलता है कि अकेले राहुल और प्रियंका ने लोकसभा चुनाव-2019 में कड़ी मेहनत की। राहुल गांधी ने सबसे ज्यादा कठिन मेहनत की। एक महासचिव का कहना है कि टीम का कप्तान पूरी मेहनत से सामना करे और टीम कैच छोड़ती रहे तो दु:ख स्वाभाविक है। यहां अकेले राहुल गांधी जिम्मेदार नहीं हैं, बल्कि पूरी कांग्रेस की टीम और पार्टी के नेता हैं। यह कांग्रेस के उन नेताओं की राय है जो कांग्रेस अध्यक्ष के साथ सहानुभूति रखते हैं। 
 
विज्ञापन

कैकेयी की तरह कोप भवन में बैठना समाधान नहीं

पार्टी के बीतर दूसरे नेताओं की भी राय है। एक पूर्व महासचिव कहते हैं कि इस टीम और चेहरों का चयन किसने किया? संचालन, संयोजन, प्रचार अभियान सबकी जिम्मेदारी कौन तय कर रहा था? उस चेहरे का चयन किसने किया था? आदि-आदि? कांग्रेस पार्टी अपना घोषणा पत्र जारी कर रही थी और डायस पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा मंच पर कौन सा उत्तर भारतीय नेता था? आखिर पार्टी शुरू से क्या संदेश दे रही थी। पार्टी के ही एक अन्य पूर्व महासचिव कहते हैं कि हार के बाद कैकेयी की तरह कोप भवन में बैठने से हल नहीं निकलेगा। पार्टी को खड़ा करने का रास्ता ईमानदारी से चिंतन और प्रयास के बाद आएगा। कभी सोनिया गांधी के विश्वासपात्र रहे एक अन्य नेता के मुताबिक जो हो रहा है, इसका पार्टी और देश में गलत संदेश जा रहा है। 

बस 10-15 दिन की बात

आइए पार्टी के कुछ मौजूदा बड़े नेताओं की राय जानते हैं। कोई अधिकारिक रूप से इस मुद्दे पर नहीं बोलना चाहता, लेकिन निकर्ष यही है कि 10-15 दिन में कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर रास्ता निकल आएगा। राहुल गांधी ने 26 जून को संसद भवन परिसर में साफ कर दिया कि वह अपने स्टैंड पर कायम हैं। वह अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा वापस नहीं लेंगे। इस तरह से नए कांग्रेस अध्यक्ष की संभावना बनी है। पार्टी के नेता नए अध्यक्ष को लेकर अभी किंकर्तव्य विमूढ़ (कुछ न बता पाने की स्थिति) हैं। अधिकांश नेताओं का कहना है कि नेहरू-गांधी परिवार और कांग्रेस दोनों एक दूसरे की पूरक है। 

कोप भवन से बाहर आ गए हैं राहुल गांधी?

कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी कोप भवन में चले गए थे। उन्होंने पार्टी के नेताओं से मिलना बंद कर दिया था। पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत अन्य के कई प्रयास बेकार चले गए। लेकिन पिछले कुछ समय से वह कोप भवन से बाहर निकल आए हैं। लोगों से मिलना-जुलना, बातचीत करना शुरू कर दिया है। राहुल गांधी ने महाराष्ट्र, हरियाणा,दिल्ली के नेताओं से चर्चा शुरू कर दी है। बैठक बुलाना आरंभ किया है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि अब संवाद शुरू हुआ है तो रास्ता निकल आएगा। रास्ता निकलेगा तो यह भी पता चलेगा कि क्यों अध्यक्ष जी इस्तीफा पर अड़े हैं और इसका उपाय क्या है? अभी तो निरुत्तर रहकर इंतजार करना है। 
विज्ञापन

Recommended

rahul gandhi congress congress president aicc cwc

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।