कर्नाटक में लश्कर आतंकी को सात साल की सजा, आतंकियों को मुहैया कराता था चंदा 

एजेंसी, बंगलूरू Updated Fri, 09 Feb 2018 06:43 PM IST
कोर्ट (सांकेतिक तस्वीर)
लश्कर ए ताइबा के एक आतंकी को यहां की एक स्थानीय अदालत ने आतंकियों को धन मुहैया कराने व मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दोषी ठहराते हुए सात साल कैद की सजा सुनाई है। अदालत ने बिलाल अहमद कूटा उर्फ इमरान जलाल पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। बिलाल कर्नाटक से अपनी गतिविधियों को संचालित करता था।

विशेष पीएमएलए अदालत के जज शिवशंकर अमरन्नावर ने बृहस्पतिवार को सजा सुनाई। यह मामला 2007 में शुरू हुआ था जब कर्नाटक पुलिस ने बिलाल को एके सिरीज की असाल्ट राइफल, 200 गोलियों, पांच हथगोले और एक सैटेलाइट फोन के साथ बंगलूरू से गिरफ्तार किया था। 

बिलाल पर आईपीसी की धाराओं के तहत भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने, हथियार और विस्फोटक रखने और अन्य धाराओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। वह साल 2001 से इन गतिविधियों में संलिप्त था साथ ही वह पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर का सदस्य भी था। ईडी ने भी बिलाल के खिलाफ साल 2009 में पीएमएलए के तहत मामला दर्ज किया था। 

Recommended

Most Popular

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।