शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

सैनिकों के खर्च में कटौती कर अपना भला कर रही मोदी सरकार: कांग्रेस

डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 12 Sep 2018 10:16 PM IST
सेना में सैनिकों की संख्या में डेढ़ लाख की कटौती करने की खबरों पर कांग्रेस ने सरकार से सवाल किया है। पार्टी ने कहा कि सैनिकों की संख्या में कटौती के पीछे खर्च बचाने का आधार बताया जा रहा है, लेकिन सच्चाई यह है कि इससे ज्यादा खर्च वह अपने प्रचार पर खर्च कर देती है। ऐसे में सैनिकों की संख्या में कटौती की जगह उसे अपने प्रचार पर लगाम लगानी चाहिए। 
विज्ञापन
कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने बुधवार को दिल्ली में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि भारत सरकार इस समय देश की सुरक्षा पर न्यूनतम खर्च कर रही है। यह खर्च सकल घरेलू उत्पाद का महज 1.58 फीसदी है जो 1962 के बाद आज तक का सबसे कम खर्च है।

अब वह इस खर्च में भी कटौती करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि लगभग 1.5 लाख सैनिकों की कटौती से लगभग 5 हजार करोड़ रुपये के बचत की बात कही जा रही है। लेकिन सरकार अपने प्रचार पर ही प्रतिवर्ष पांच से सात हजार करोड़ रुपये खर्च कर देती है। सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरों को बदलते रहने के लिए प्रति माह 60 करोड़ रुपये का खर्च किया जाता है। ऐसी स्थिति में सैनिकों की संख्या में कटौती की बजाय उसे अपने प्रचार पर खर्च कम क्यों नहीं करना चाहिए।

कांग्रेस नेता ने कहा कि जब शहादत की बात आती है तो देश के सैनिक सामने आते हैं, लेकिन जब श्रेय लेने की बात आती है तो मोदी सरकार और भाजपा खुद सामने आ जाती है। उन्होंने कहा कि जब से यह सरकार सत्ता में आई है, सिर्फ जम्मू-कश्मीर में 410 जवान मारे जा चुके हैं, 243 सीआरपीएफ जवानों की शहादत नक्सलियों से मुकाबला करते समय हुई है। ऐसे समय में जवानों का मनोबल बढ़ाने की जगह उनका मनोबल तोड़ने वाला फैसला सरकार ले रही है जिससे उसे बचना चाहिए।

सिंघवी ने कहा कि देश के सामने चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं और उससे निबटने के लिए सैनिकों को और अधिक दक्ष किये जाने की जरुरत है। सुरक्षा पर बनी पार्लियामेंट स्टैंडिंग कमेटी ने इसके बारे में अपनी चिंता व्यक्त की है। कमेटी के सामने रखी गई एक रिपोर्ट के मुताबिक सेना के 68% उपकरण पुराने हो चुके हैं और उन्हें बदले जाने की जरुरत है। सरकार को उन पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि इससे देश की सुरक्षा खतरे में पड़ती है।

Spotlight

Most Read

Related Videos

Related

विज्ञापन
Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।