शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

चंडीगढ़ः सूद धर्मशाला में क्वारंटीन कोरोना मरीज खुद करते झाड़ू पोछा...खाना भी भरपेट नहीं मिलता

अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sat, 23 May 2020 11:50 AM IST
विज्ञापन
क्वारंटीन सेंटर में मरीजों के हालात - फोटो : अमर उजाला

विज्ञापन मुक्त विशिष्ट अनुभव के लिए अमर उजाला प्लस के सदस्य बनें

Subscribe Now
कोरोना संक्रमित मरीजों को डिस्चार्ज किए जाने को लेकर गाइडलाइन में बदलाव के बाद चंद दिनों में ही सूद धर्मशाला में 122 मरीज शिफ्ट कर दिए गए। यहां पीजीआई के अलावा श्री धनवंतरि आयुर्वेदिक कॉलेज के भी मरीज शिफ्ट हुए हैं। 200 कमरे वाली इस धर्मशाला में 3 फ्लोर हैं, जहां कुछ कमरों में एक ही परिवार के कई सदस्य एक साथ रह रहे हैं।

यहां क्वारंटीन मरीजों की शिकायत है कि उन्हें चाय के नाम पर गर्म पानी और नाश्ते के नाम पर महज दो ब्रेड और 50 एमएल दूध दिया जा रहा है। दोपहर का खाना लगभग 3 बजे मिल रहा है। वहीं, शाम की चाय के बाद सीधे रात को तीन रोटी खाने में दी जाती है। उसके बाद रोटी मांगने पर साफ मना कर दिया जा रहा है।

सीन- वन: सेक्टर-22 स्थित सूद धर्मशाला में शुक्रवार की सुबह 8.30 बजे मेन गेट के पास खड़े कर्मचारी ने जोर से आवाज लगाई। चाय बन गई है.. सब आकर ले लो। उसके इतना बोलते ही तीन तल वाले धर्मशाला में क्वारंटीन लगभग 100 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मरीज एक साथ अपने कमरों से बाहर निकल आए।

चाय लेने के लिए भीड़ जुट गई। हर कोई एक-दूसरे को धक्का मारकर चाय उठाने की कोशिश करता नजर आया। सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों की धज्जियां उड़ाकर लोग एक-दूसरे को धक्का मारकर आगे निकलते दिखे।
विज्ञापन

सीन-दो: सूद धर्मशाला में पीजीआई से क्वारंटीन किए गए मनीमाजरा निवासी एक ही परिवार के तीन सदस्य एक रूम में ठहराए गए हैं। उन 3 सदस्यों में से एक सदस्य सुबह उठकर कमरे में वाईपर से पोछा लगाता नजर आया। पूछने पर बताया कि कमरे में इतनी गंदगी है कि यहां ठहरने में डर लग रहा है। हमसे पहले जो मरीज यहां रुके थे, उनका जूठा डस्टबिन में भरा पड़ा है। उसे भी साफ नहीं किया गया। सफाई की बात करने पर हमें वाइपर और पोछा थमा दिया गया है, इसलिए अपने बचाव के लिए खुद ही साफ-सफाई कर रहे हैं।

सीन- तीन: सूद धर्मशाला में क्वारंटीन मलोया निवासी एक कोरोना पॉजिटिव महिला की भूख के मारे हालत खराब बिगड़ रही है। महिला ने बताया कि रात और दिन के खाने में तीन-तीन रोटी दी जाती है। भूख ज्यादा होने पर धर्मशाला वाले से एक-दो रोटी और देने का अनुरोध किया तो जवाब मिला कि इतना ही खाना मिलेगा। इससे ज्यादा चाहिए तो घर से मंगाओ। महिला का कहना है कि कोरोना ठीक हो न हो हमें भूख के कारण दूसरी कोई गंभीर बीमारी जरूर हो जाएगी।
विज्ञापन

एक दिन पहले पीजीआई में हुआ था बवाल
सूद धर्मशाला में क्वारंटीन किए जाने पर वीरवार को सेक्टर 25 निवासी 2 माह की कोरोना पॉजिटिव बच्ची की मां पीजीआई में बवाल कर चुकी है। उस महिला ने धर्मशाला की अव्यवस्था का हवाला देते हुए अपने नवजात बच्चे को वहां शिफ्ट किए जाने का विरोध किया था। उसके बवाल के बाद पीजीआई प्रशासन ने उसकी बच्ची को दोबारा पीजीआई में भर्ती किया। उस महिला ने शिकायत की थी कि उसकी बच्ची धर्मशाला में दूध के अभाव में दम तोड़ देगी।

गाइडलाइंस के अनुसार दी जा रही सभी सुविधाएं: स्वास्थ्य सचिव
चंडीगढ़ के स्वास्थ्य सचिव अरुण कुमार गुप्ता ने बताया कि सूद धर्मशाला में कोरोना के मरीजों को डिस्चार्ज करने के बाद उन्हें क्वारंटीन करने की सुविधा है। अगर किसी के घर में क्वारंटीन की सुविधा है तो वह घर जा सकता है। सूद धर्मशाला में मरीजों को होम क्वारंटीन की सुविधा दी जा रही है। वहां एक कमरा दिया जा रहा है, जिसके साथ जुड़ा हुआ एक बाथरूम है। सरकार की तरफ से जो गाइडलाइंस है, उसके अनुसार वहां लोगों को सभी सुविधाएं दी जा रही हैं।
विज्ञापन

Recommended

reality check corona patients corona patients quarantine sood dharamshala coronavirus
विज्ञापन

Spotlight

Recommended Videos

Most Read

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।