लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Sudan PM Abdallah Hamdok under arrest after military storms house

सूडान में आपातकाल: प्रधानमंत्री समेत कई अधिकारी नजरबंद, सरकारी दफ्तरों में सेना की मौजूदगी

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Published by: प्रशांत कुमार झा Updated Wed, 27 Oct 2021 10:56 PM IST
सार

सूडान में सत्ता साझा करने वाली सत्ताधारी संस्था, संप्रभु परिषद का नेतृत्व करने वाले जनरल अब्देल फत्ताह अल-बुरहान ने देश भर में आपातकाल की घोषणा की और मौजूदा सरकार को भंग कर दिया।

सूडान के प्रधानमंत्री अब्दुल्ला हमदोक
सूडान के प्रधानमंत्री अब्दुल्ला हमदोक - फोटो : Twitter - @SudanPMHamdok
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

सूडान में सेना ने देश के प्रधानमंत्री और अंतरिम सरकार के मंत्रियों समेत कई सदस्यों को सोमवार तड़के गिरफ्तार कर लिया है। सेना ने परवर्ती सरकार को भंग कर आपातकाल लगा दिया है। तख्तापलट के विरोधियों ने सड़कों पर इस कार्रवाई के विरोध में प्रदर्शन किया, जिसमें गोलीबारी के बाद कई लोगों के चोटिल होने की खबरें हैं। उधर, सेना ने सरकारी रेडियो और टीवी को भी अपने कब्जे में ले लिया है।



सूडान में सत्ता साझा करने वाली सत्ताधारी संस्था, संप्रभु परिषद का नेतृत्व करने वाले जनरल अब्देल फत्ताह अल-बुरहान ने देश भर में आपातकाल की घोषणा की और मौजूदा सरकार को भंग कर दिया। सूचना मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री अब्दुल्ला हमदोक को तख्तापलट के समर्थन में बयान जारी करने के सनिकार करने के बाद हिरासत में लेकर किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है।


इस बीच, तख्तापलट का विरोध करने वाले हजारों लोग सड़कों पर उतरे और राजधानी खार्तूम में सैन्य मुख्यालय के पास विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने राष्ट्रीय ध्वज को लेकर शहर के विभिन्न हिस्सों में टायर जलाए। इस बीच गोलीबारी और झड़पों में 12 लोगों के घायल होने की खबरें हैं। सूडान पीएम के सलाहकार एडम हेरिका ने बताया कि अमेरिकी विशेष प्रतिनिधि की मौजूदगी में सत्तारूढ़ परिषद के साथ समझौते के बाद भी तख्तापलट हो गया है।

इंटनेट बंद, सड़कों पर अफरा-तफरी, अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रोकीं
दो वर्ष पूर्व लंबे समय से सूडान पर शासन कर रहे उमर अल-बशीर को सत्ता से हटाने के बाद एक अंतरिम सरकार अस्तित्व में आई थी। तभी से सेना और सरकार में तकरार हालात थे। अब तख्तापलट के बाद खार्तूम में इंटरनेट बंद है। जबकि गुस्साई भीड़ सड़कों पर टायर जलाती दिख रही है। राजधानी में सेना और अर्धसैनिक बल तैनात हैं और लोगों की आवाजाही सीमित कर दी गई है। खार्तूम हवाईअड्ड् भी बंद कर सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ाने रोक दी गई हैं। लोकतंत्र समर्थक समूहों का कहना है कि सेना ने सुनियोजित ढंग से तख्तापलट को अंजाम दिया ताकि वो फिर से सत्ता में आ सके। 

अमेरिका, यूएन ने जताई चिंता
इस तख्तापलट के बाद अमेरिका ने सूडान के हालात पर चिंता जताई है। सूडान का दौरा कर रहे अमेरिकी विशेष दूत, एडम फेल्टमैन ने ट्वीट किया कि अमेरिका एक सैन्य अधिग्रहण की खबरों से बहुत चिंतित है और इससे अमेरिकी सहायता खतरे में पडेगी। उधर संयुक्त राष्ट्र, अरब लीग और अफ्रीकी संघ ने भी इस तख्तापलट पर चिंता जताते हुए सियासी नेताओं की रिहाई और मानवाधिकारों के सम्मान की बात कही।

वहीं, संयुक्त राष्ट्र के लिए भारत का स्थायी मिशन के काउंसलर ए. अमरनाथ ने कहा कि भारत के सूडान और दक्षिण सूडान दोनों के साथ लंबे समय से और पारस्परिक रूप से लाभकारी मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। हमने द्विपक्षीय सहायता और परियोजनाओं के माध्यम से दोनों देशों के विकास में योगदान दिया है। भारत एक दीर्घकालिक भागीदार के रूप में शांति और विकास की दिशा में अपनी यात्रा में जुबा और खार्तूम का समर्थन करना जारी रखेगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00