लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   EX Scientist at Wuhan lab says COVID was man-made virus

COVID Man-Made: 'मानव निर्मित था कोविड-19 वायरस', वुहान लैब के पूर्व वैज्ञानिक का चौंकाने वाला खुलासा

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Mon, 05 Dec 2022 02:10 PM IST
सार

'न्यूयॉर्क पोस्ट' ने ब्रिटिश अखबार 'द सन' में अमेरिका स्थित शोधकर्ता एंड्रयू हफ के बयान के हवाले से बताया कि दो साल पहले वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ((WIV)) से कोविड लीक हुआ था और यह इंसान द्वारा तैयार किया गया था। 

US-based researcher Andrew Huff
US-based researcher Andrew Huff - फोटो : ANI
विज्ञापन

विस्तार

कोरोना महामारी फैलाने वाले कोविड-19 वायरस के मानव निर्मित होने को लेकर शुरू से की जा रही आशंका सच साबित होती नजर आ रही हैं। अब चीन की वुहान लैब में काम कर चुके एक वैज्ञानिक ने चौंकाने वाला खुलासा किया है कि COVID-19 वायरस मानव निर्मित था। उधर, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीस कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। 


चीन के वुहान की विवादित लैब के अमेरिकी वैज्ञानिक ने दावा किया है कि कोविड-19 एक मानव निर्मित वायरस था और यह इसी लैब से लीक हुआ था। 'न्यूयॉर्क पोस्ट' ने ब्रिटिश अखबार 'द सन' में अमेरिका स्थित शोधकर्ता एंड्रयू हफ के बयान के हवाले से बताया कि दो साल पहले वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (डब्ल्यूआईवी) से कोविड लीक हुआ था। यह लैब चीन सरकार द्वारा संचालित और वित्त पोषित है। 


'द ट्रुथ अबाउट वुहान' में खुलासा
न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी विशेषज्ञ एंड्रयू हफ ने अपनी नई किताब 'द ट्रुथ अबाउट वुहान' में यह दावा किया है। हफ का दावा है कि यह महामारी अमेरिकी सरकार के चीन में कोरोना वायरस रिसर्च की फंडिंग के कारण हुई थी। हफ की किताब के कुछ अंश ब्रिटिश अखबार 'द सन' में प्रकाशित किए गए हैं। वे न्यूयॉर्क स्थित एक गैर-लाभकारी संगठन इकोहेल्थ एलायंस के पूर्व उपाध्यक्ष हैं। यह एनजीओ संक्रामक रोगों का अध्ययन करता है। उन्होंने अपनी किताब में दावा किया है कि चीन के गेन-ऑफ-फंक्शन प्रयोग पूरी सुरक्षा के साथ नहीं किए गए, जिसके कारण वुहान लैब में रिसाव हुआ। 

चीन सरकार लगातार कर रही इनकार
बता दें, कोविड वायरस के मानव निर्मित होने व वुहान की लैब से फैलने को लेकर पहले भी दावे किए जा चुके हैं। हालांकि, चीन सरकार लगातार इन दावों का खंडन करती रही है। सरकारी अधिकारियों और लैब कर्मचारियों दोनों ने इस बात से इनकार किया है कि वायरस की उत्पत्ति इसी लैब में हुई है। 

लैब में नहीं थे सुरक्षा को पुख्ता इंतजाम
शोधार्थी एंड्रयू हफ ने ताजा पुस्तक में दावा किया है कि इस लैब में उचित जैव सुरक्षा और जोखिम प्रबंधन के इंतजाम नहीं थे। इसी वजह से वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में की प्रयोगशाला से कोविड वायरस का रिसाव हुआ। 

अमेरिकी सरकार को भी बताया दोषी
वैज्ञानिक हफ ने 2014 से 2016 तक इकोहेल्थ एलायंस में काम किया है। उन्होंने कहा कि गैर-लाभकारी संगठन ने कई वर्षों तक वुहान लैब को अन्य प्रजातियों पर हमला करने के लिए चमगादड़ों को तैयार किया। इन्हें कोविड संक्रमण फैलाने में सक्षम बनाया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि अमेरिकी सरकार चीनी लैब को खतरनाक जैव प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण की दोषी है। 
विज्ञापन

ऑस्ट्रेलिया पीएम एंथनी अल्बनीस कोविड पॉजिटिव
उधर, कैनबरा से खबर है कि ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीस कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने खुद सोशल मीडिया पर यह जानकारी साझा करते हुए कहा कि उन्होंने  खुद को आइसोलेट कर लिया है। वे घर से ही काम करेंगे।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00