विज्ञापन

जाकिर नाईक पर मलयेशिया सरकार में मतभेद, मंत्री बोले- प्रत्यर्पण का फैसला कोई एक व्यक्ति नहीं कर सकता

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 13 Jul 2018 03:03 PM IST
जाकिर नाईक (फाइल फोटो)
जाकिर नाईक (फाइल फोटो)
विज्ञापन
ख़बर सुनें
विवादित कट्टरपंथी प्रचारक जाकिर नाईक के मलयेशिया से प्रत्यर्पण का मामला अब वहां भी जोर पकड़ने लगा है। मौजूदा डेमोक्रेटिक एक्शन पार्टी (डीएपी) के एक नेता ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने और दो अन्य मंत्रियों ने प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद के उस बयान के बाद कैबिनेट की बैठक में जाकिर नाईक के मुद्दे को उठाया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारतीय मुस्लिम प्रचारक को उसके देश में निर्वासित नहीं किया जाएगा। मलयेशिया के मानव संसाधन मंत्री एम कुलसेगरन ने यह भी कहा कि वह इस मामले को भारतीय नेतृत्व के सामने भी उठाएंगे। 
विज्ञापन
उन्होंने कहा 'मैं लोगों को आश्वस्त करता हूं कि जब भी मैं भारत जाऊंगा और अगर मुझे भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का मौका मिला, तो मैं उनके साथ इस मामले पर जरूर चर्चा करूंगा।' उन्होंने ये भी कहा कि जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण का फैसला अदालत द्वारा होना चाहिए, न की किसी व्यक्ति या सरकार द्वारा। उन्होंने कहा कि सरकार को नियमों का पालन करना चाहिए और भारत को भी प्रत्यर्पण की अर्जी देनी चाहिए। 

कुलसेगरन ने कहा कि भारत सरकार को जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण को लेकर मलयेशिया सरकार से अनुरोध करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनके साथी मंत्रियों गोबिंद सिंह देव और जेवियर जयकुमार ने बुधवार को कैबिनेट की बैठक में भी इस मुद्दे को उठाया था। हमने इसपर चर्चा की और निष्कर्ष निकाला कि यदि भारत से कोई औपचारिक अनुरोध आता है तो हम अटॉर्नी जनरल से इस बारे में पूछेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री महातिर का यह कहना गलत नहीं था कि नाईक को तब तक निर्वासित नहीं किया जाएगा जब तक वो यहां कोई परेशानी नहीं पैदा करता। 

बता दें कि विवादित कट्टरपंथी प्रचारक जाकिर नाईक भारत में कथित रूप से आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के साथ ही मनी लॉन्ड्रिंग मामलों में भी आरोपी है। वह 2016 में भारत छोड़ चुका है और मलयेशिया में शरण लेकर रह रहा है। पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कहा था कि जाकिर को भारतीय अधिकारियों को नहीं सौंपा जाएगा। नाईक को मलयेशिया में स्थायी रूप से रहने की अनुमति मिल चुकी है। प्रधानमंत्री ने कहा था कि जाकिर जब तक यहां कोई गड़बड़ी नहीं करता है तब तक वो मलयेशिया में रह सकता है।  

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

आज सुनाया जाएगा कंबोडिया में नरसंहार मामले पर अहम फैसला

कंबोडिया के ख्मेर रूज शासन के दो वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ चल रहे नरसंहार मामले पर आज फैसला सुनाया जाएगा। जिन नेताओं के खिलाफ मामला चल रहा है उनमें ख्मेर रूज के पूर्व प्रमुख सेम्फान (87) और निओन चिआ (92) शामिल हैं।

16 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

हिंदू देवी के नाम से बसा है यह जापानी शहर

देश-विदेश में हिंदू धर्म के बहुत से खूबसूरत मंदिर बने हुए हैं। आज हम आपको विदेशी धरती पर बने एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो देवी लक्ष्मी के नाम पर बना हुआ है।

5 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree