विज्ञापन

नाटो सम्मेलन में ट्रंप और मर्केल में हुई जुबानी जंग, ट्रंप ने कहा- जर्मनी है रूस के चंगुल में

न्यूयॉर्क टाइम्स न्यूज सर्विस, ब्रुसेल्स Updated Thu, 12 Jul 2018 03:56 PM IST
A verbal fight between Donald Trump and Angela Merkel in Nato summit
विज्ञापन
ख़बर सुनें
जी-7 बैठक के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ब्रुसेल्स में चलने वाले नाटो शिखर सम्मेलन से ठीक पहले जर्मनी पर हमला बोला है। बुधवार को शुरू हुआ उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) का यह सम्मेलन बृहस्पतिवार को भी जारी रहा। इस बीच ट्रंप और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल में तीखी जुबानी जंग हुई। ट्रंप ने जर्मनी को रूस के चंगुल में बताते हुए रक्षा बजट में तत्काल बढ़ोतरी की मांग की तो मर्केल ने कहा कि रूसी दबदबे का अर्थ उन्हें पता है और जर्मनी स्वतंत्र रूप से अपनी नीतियां बनाता है और फैसले लेता है।
विज्ञापन
बृहस्पतिवार को नाटो सम्मेलन के दूसरे दिन ट्रंप अजरबेजान, रोमानिया, यूक्रेन और जॉर्जिया के नेताओं से मुलाकात करेंगे। यूके के लिए रवाना होने से पहले वह उत्तरी अटलांटिक काउंसिल की बैठकों में भी भाग लेंगे। अपने सैन्य गठबंधन के नेताओं के साथ बैठकों का पहला दिन काफी विवाद भरा रहा। ट्रंप ने अपने यूरोपीय सहयोगियों की निंदा करते हुए जर्मनी व रूस के बीच पाइपलाइन डील से रूस के खाते में करोड़ों डॉलर जमा होने का आरोप लगाया। नाटो के रक्षा खर्च में मदद नहीं करने पर ट्रंप ने सदस्य देशों से खर्च को जीडीपी का दो के बजाय चार फीसद करने को कहा।

मर्केल ने भी पलटवार करते हुए कहा कि जर्मनी अपनी नीतियां खुद तय करता है न कि उस पर रूस का प्रभाव होता है। उन्होंने कहा, मुझे गर्व है कि हम फेडरल रिपब्लिक ऑफ जर्मनी की तरह एकजुट हैं। यूरोप और अमेरिका के द्वंद्व के कारण ब्रुसेल्स का यह दो दिनी सम्मेलन गठबंधन के लिए सबसे मुश्किल समय साबित हो रहा है। बैठक के बाद ट्रंप लंदन जाकर क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय और ब्रिटिश पीएम टेरीजा मे के साथ मुलाकात करेंगे। यहां ब्रेक्जिट वोट के बाद टेरीजा सरकार यूरोपीय संघ से बाहर होने के तरीके पर संकट का सामना कर रही है।

सोवियत विघटन के बाद बदली नाटो की भूमिका

नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गनाइजेशन (नाटो) के अमेरिका व यूरोपीय देशों समेत 29 सदस्य हैं। इस संगठन को 1949 में सोवियत संघ को किसी भी तरह रोकने के मकसद से खड़ा किया गया था। सोवियत संघ के विघटन के बाद भी इसकी भूमिका बदल गई और अब यह संगठन आतंकवाद से लड़ाई, पड़ोसी देशों में स्थिरता बनाए रखना, साइबर सुरक्षा आदि के लिए काम करता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

श्रीलंका में सियासी संकट जारी, हंगामे के बाद संसद की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित

श्रीलंका की संसद में शुक्रवार को दूसरे दिन भी अराजकता देखी गई। विवादित प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के समर्थक सांसदों ने अध्यक्ष कारू जयसूर्या की सीट पर कब्जा कर लिया और नारेबाजी की।

16 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

हिंदू देवी के नाम से बसा है यह जापानी शहर

देश-विदेश में हिंदू धर्म के बहुत से खूबसूरत मंदिर बने हुए हैं। आज हम आपको विदेशी धरती पर बने एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो देवी लक्ष्मी के नाम पर बना हुआ है।

5 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree