विज्ञापन

जीवेम शरदः शतम् : वेदों की वाणी इस देश में हुई सच, 70 हजार लोगों की उम्र 100 साल से ज्यादा

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Sat, 15 Sep 2018 03:20 PM IST
Old Age People in Japan
Old Age People in Japan
विज्ञापन
ख़बर सुनें
जीवेम शरदः शतम् अर्थात हम सौ शरद ऋतु तक जीएं यानि हम सौ वर्ष तक जीएं। अथर्ववेद में 19वें खंड के 67वें सूक्त में सुखपूर्वक 100 या उससे ज्यादा वर्षों तक जीने की कामना की गई है। यह सनातन सत्य जापान में भी देखने को मिल रहा है। 
विज्ञापन
जापान में 100 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की आबादी इस महीने रिकार्ड 69,785 हो गई है। इसमें से 88.1 फीसदी महिलाएं हैं जिन्होंने अपने जीवन में 100 शरद ऋतुओं को जीया है। सरकार ने यह जानकारी देते हुए कहा कि इसका कारण स्वास्थ्य सेवाओं में हुई उन्नति और लोगों के बीच स्वास्थ्य को लेकर बढ़ती जागरूकता है। 

रिपोर्ट के मुताबिक यह आंकड़ा पिछले साल से 2,014 अधिक है तथा दो दशक पहले की तुलना में सात गुणा अधिक है। 

जापान में 100 से ज्यादा उम्र वाले लोगों में 61,454 महिलाएं हैं, जबकि 8,331 पुरुष हैं, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री यासुहिरो नाकासोने भी शामिल हैं, जो मई में 100 साल के हुए। 

जापान में 100 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों की संख्या में 1971 से बढ़ोतरी हो रही है और सरकार को उम्मीद है कि यह चलन जारी रहेगा। 

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन एंड सोशल सिक्युरिटी रिसर्च के अनुमानों के मुताबिक, अगले पांच सालों में वहां 100 से अधिक उम्र वाले लोगों की संख्या एक लाख को पार कर जाएगी तथा अगले 10 सालों में बढ़कर यह 1,70,000 हो जाएगी। 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

पाकिस्तान छोड़कर जर्मनी में नई जिंदगी शुरू करना चाहती है आसिया, बोली- कट्टरपंथियों से जान का खतरा

पाक सुप्रीम कोर्ट ने भले ही आसिया बीबी को ईशनिंदा के आरोप से आजाद कर रिहा कर दिया हो लेकिन अब उसके लिए देश में बिना डर के जीना मुमकिन नहीं है।

14 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

हिंदू देवी के नाम से बसा है यह जापानी शहर

देश-विदेश में हिंदू धर्म के बहुत से खूबसूरत मंदिर बने हुए हैं। आज हम आपको विदेशी धरती पर बने एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो देवी लक्ष्मी के नाम पर बना हुआ है।

5 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree